24 C
New Delhi
Thursday, February 22, 2024
-Advertisement-

उपेन्द्र कुशवाहा ने माना नीतीश का लोहा, तेजस्वी को कमजोर बता तोड़ा महागठबंधन से नाता

पटनाः लोकसभा चुनाव से ठीक पहले NDA छोड़कर महागठबंधन में शामिल हुए उपेन्द्र कुशवाहा ने बिहार विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन से भी नाता तोड़ लिया। दरअसल, महागठबंधन में अपनी उपेक्षा से नाराज उपेंद्र कुशवाहा ने आज अपने दल के नेताओं की बैठक बुलायी थी। राज्य भर से रालोसपा के नेता आज पटना पहुंचे थे। बैठक में उपेंद्र कुशवाहा ने यह इशारा कर दिया कि अब उनकी पार्टी महागठबंधन का हिस्सा नहीं है। हालांकि उन्होंने इसका खुले तौर पर एलान तो नहीं किया है, लेकिन पार्टी की बैठक में इसकी घोषणा जरुर कर दी है।

इस दौरान कुशवाहा ने तेजस्वी यादव पर खुला हमला बोलते हुए कहा तेजस्वी जैसे लोग नीतीश कुमार को परास्त नहीं कर सकते। उपेन्द्र कुशवाहा का मानना है कि RJD ने जिस नेतृत्व को खड़ा किया है उसके पीछे रह कर बिहार में सत्ता परिवर्तन नहीं होने जा रहा है। कुशवाहा कि नज़र में तेजस्वी यादव बेहद कमजोर नेता हैं। कुशवाहा की मानें तो बिहार की जनता ऐसा नेतृत्व चाहती है जो नीतीश कुमार का मुकाबला कर सके, लेकिन आरजेडी ऐसा नहीं कर पाया।

Read also: Bihar Election 2020: पप्पू यादव का प्रतिज्ञा पत्र- वादे से फिरा तो तीन साल में दे देंगे इस्तीफा

ऐसे में वो महागठबंधन के साथ नहीं रह सकते, हां अगर राजद नेतृत्व बदले तो वे महागठबंधन में रहेंगे। ऐसे में कोई सवाल नहीं उठता कि राजद से उनका गठबंधन हो पायेगा

बकौल कुशवाहा आज भी सीट का मामला उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण नहीं है। उनके दल के जो नेता चुनाव नहीं लड़ पाते, वो उन्हें समझा लेते लेकिन यह एक-दो साथी का सवाल नहीं है क बिहार का सवाल है। सीट की संख्या का कोई मामला नहीं।

अभय पाण्डेय
अभय पाण्डेय
आप एक युवा पत्रकार हैं। देश के कई प्रतिष्ठित समाचार चैनलों, अखबारों और पत्रिकाओं को बतौर संवाददाता अपनी सेवाएं दे चुके अभय ने वर्ष 2004 में PTN News के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। इनकी कई ख़बरों ने राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरी हैं।