27 C
New Delhi
Thursday, May 6, 2021

बच्चे की मौत के बाद खुली प्रशासन की नींद, हेल्थ मैनेजर सहित 4 नर्स निलंबित

जहानाबाद: ऐम्बुलेंस  के अभाव में एक तीन वर्षीय बच्चे की मौत की ख़बर जब सुर्खियों में आई, तो जिला प्रशासन की नींद खुल गई। प्रशासन ने अपनी नाकामी पर पर्दा डालने के लिए त्वरित कार्रवाई करते हुए सदर अस्पताल के हेल्थ मैनेजर को सेवा मुक्त करने हेतु एक माह की नोटिस निर्गत करने के साथ ही ड्यूटी पर तैनात 4 नर्सों को निलंबित कर दिया है। इसके अलावें जिलाधिकारी की तरफ से अस्पताल में तैनात डॉक्टर और एम्बुलेंस ड्राइवर पर भी करवाई किए जाने को लेकर स्वास्थ्य विभाग को अनुशंसा पत्र भेजा गया है।

पूरा मामला ऐंबुलेंस के अभाव में एक तीन वर्षीय बच्चे की मौत से जुड़ा है। दरअसल अरवल जिला के शाहपुर गांव में एक बच्चे की अचानक तबीयत खराब हो गई। परिजनों के द्वारा आनन-फानन में उसे जहानाबाद सदर अस्पताल लाया गया, जिसे डॉक्टरों ने पटना रेफर कर दिया, लेकिन पटना जाने के लिए अस्पताल की तरफ से ऐंम्बुलेंस उपलब्ध नही कराया जा सका। काफी देर तक उसकी माँ लोगों से फरियीद करती रही लेकिन किसी ने उसकी एक नहीं सुनी और आखिरकार  बच्चे ने अपनी माँ के गोद मे ही दम तोड़ दिया।

Advertisement

Read also: कोरोना ने नहीं, बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था ने ले ली एक मासूम की जान

ऐंबुलेंस के अभाव में बच्चे के मौत की पूरी खबर न्यूज़ स्टंप सहित कई समाचार संस्थानों ने प्रमुखता से दिखाई, जिसके बाद प्रशासन की नींद खुली और उसने यह कार्रवाई की।

Advertisement

बहरहाल प्रशासन ने दोषिंयों पर त्वरित कार्रवाई तो कर दी, लेकिन अब सवाल यह है कि प्रशासन की नींद हमेशा मीडिया में खबर दिखाये जाने और किसी के मरने के बाद ही क्यों खुलती हैं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!