21.3 C
New Delhi
Friday, February 26, 2021

जे एस इंटरनेशनल स्कूल में संस्कारशाला, जियर स्वामी ने दिए शिक्षा के साथ संस्कार पर जोर

रोहतासः शिक्षा और संस्कार के बिना मानव जीवन पशु समान है।आज शिक्षा और संस्कार को लोग अलग अलग कर के चल रहे हैं।परन्तु शिक्षा और संस्कार एक दूसरे के पूरक हैं।बिना संस्कार के शिक्षा का कोई महत्व नहीं है। उक्त बातें नोखा के भँवरह मोड़ स्थित जे. एस .इंटरनेशनल स्कूल (JS international school) के तत्वाधान में गुरुवार को  आयोजित संस्कारशाला कार्यक्रम में उपस्थित नागरिकों,अभिभावकों व छात्र-छात्राओं को  अपने सम्बोधन में श्री लक्ष्मीप्रपन्न जियर जी स्वामी महाराज जी ने कही।

उन्होंने ऐसे कार्यक्रम के आयोजन के लिए विद्यालय परिवार की सराहना करते हुए कहा कि सही शिक्षा वही है जिसमें संस्कार, संस्कृति,सभ्यता,मानवता,सौहार्द्र,सहिष्णुता एवं समरसता विद्यमान हो।ये सब एक दूसरे के पोषक व पूरक हैं।क्योंकि शिक्षा को कहीं संस्कार से अलग कर दिया जाए तो शिक्षा नाम नहीं रह जाये। उन्होंने त्रिलोक विजयी लंकेश रावण व राक्षसराज हिरण्यकशपु का उदाहरण देते हुए कहा कि लंकेश रावण के पास धन-वैभव, ऐश्वर्य, शिक्षा सब कुछ था,  बस एक चीज की कमी रह गयी थी कि उसने संस्कार और सभ्यता को छोड़ दिया था।

Advertisement

Read also: महिलाओं के सम्मान में पहले गढ़े क़सीदे, फिर होली के बहाने उसी मंच पर रात भर नचाया

इतनी बड़ी शिक्षा एवं संसाधन होने के बावजूद मात्र संस्कार छोड़ देने से देने का परिणाम यह हुआ कि उसके जीवन में कुछ नहीं रहा। सोने की लंका भी जलकर खाक हो गए।स्वामी जी ने कहा कि इसीलिए मानव जीवन में शिक्षा और संस्कार का समन्वय होना बहुत जरूरी है और ऐसे शिक्षा संस्थान जो शिक्षा के साथ संस्कार के महत्व को छात्रों के बीच बताते हैं यह बहुत अच्छी बात है, क्योंकि शिक्षा के साथ संस्कार मानव जीवन को उस मुकाम तक पहुंचाते हैं,  जिसके लिए बड़े-बड़े  ऋषि -महात्मा वर्षो तपस्या करते रहे हैं।

Advertisement

जे .एस. इंटरनेशनल स्कूल (JS international school) के निदेशक राहुल कुमार सिंह ने कार्यक्रम के बारे में बताया कि  आज के दौर में शिक्षा एवं टेक्नोलॉजी का विकास तो जरूर हुआ है परंतु हमारी सभ्यता-संस्कृति एवं संस्कार से बच्चे व युवा दूर होते चले जा रहे हैं। जबकि बच्चों में शिक्षा के साथ-साथ संस्कार का होना बेहद जरूरी है, क्योंकि संस्कार विहीन  शिक्षा एवं व्यक्ति  किसी काम का नहीं होता। बस इसी को ध्यान में रखकर जे .एस. इंटरनेशनल स्कूल (JS international school) द्वारा संस्कारशाला का आयोजन किया गया है।

Read also: भ्रष्टाचार के दलदल में नोखा नगर पंचायत, सात निश्चय योजना के नाम पर मची है लूट

उन्होंने कहा कि यह संस्कार सिर्फ मानव जीवन ही नहीं बल्कि प्रकृति के साथ भी निभानी होगी ताकि हमारा समाज व पर्यावरण दोनों सुरक्षित रह सकें। राहुल कुमार सिंह ने बताया कि विद्यालय द्वारा आयोजित संस्कारशाला कार्यक्रम बच्चों को बुद्धिमान के साथ-साथ संस्कारवान बनाने की छोटी सी पहल है जिसे विद्यालय परिवार द्वारा आगे भी निरंतर जारी रखा जाएगा । इसके पूर्व कार्यक्रम का शुभारम्भ डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया।अतिथियों का स्वागत विद्यालय के ट्रस्टी राजेश कुमार सिंह ने बुके देकर किया। संचालन वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय हिंदी विभाग एचओडी प्रो रणविजय सिंह ने किया।

मौके पर शाहाबाद के रेंज DIG पी.कन्नन, SP सत्यवीर सिंह, प्रभारी DYSP लक्ष्मण प्रसाद, BDO रामजी पासवान, थानाध्यक्ष नरोतमचन्द्र, संझौली के उप प्रमुख डॉ.मधु उपाध्याय,JSI प्रमोद सिंह, भाजपा नेता बालाजीत सिंह, जितेंद्र सिंह,नरेंद्र तिवारी, राजेन्द्र सिंह, पंकज कुमार, सन्तोष पाठक, अजय विक्रम सिंह, चंद्रकांत सिंह, अमित तिवारी सहित कई गणमान्य नागरिक, अभिभावक, शिक्षक-शिक्षिकाएं व छात्र-छात्राएं मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!