28.1 C
New Delhi
Friday, September 24, 2021

गहलोत सरकार के लिए संकट बने पायलट, राजस्थान-दिल्ली की सीमा हो सकती है सील!

जयपुरः राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार पर फिर से राजनीतिक संकट मंडरा सकता है। बताया जा रहा है कि सचिन पायलट ने अपने खेमे के विधायकों की बैठक 10 जून को बुलाई है। पायलट गुट के सक्रिय होने के बाद सीएम अशोक गहलोत कैंप में भी हलचल शुरू हो गई है। पायलट की बैठक की टाइमिंग को लेकर कांग्रेस में हड़कंप मचा हुआ है।

Advertisement

डेढ़ दर्जन विधायक सचिन पायलट के साथ

सचिन के साथ राजस्थान कांग्रेस के करीब डेढ़ दर्जन से अधिक विधायक हैं। ये सभी पिछली बार उनके संग हरियाणा भी गए थे। कहा जा रहा है कि अब गहलोत सरकार के 2 और मंत्रियों ने पायलट को समर्थन दिया है। पिछले दिनों इन मंत्रियों की पायलट से मुलाकात भी हो चुकी है।

Advertisement

किए गए वादे पूरे नहीं होने पर सचिन पायलट नाराज

राजस्थान में पिछले वर्ष सचिन पायलट खेमे की बगावत के बाद बनी कांग्रेस की 3 सदस्यीय सुलह कमेटी की अब तक रिपोर्ट नहीं आने पर कांग्रेस में एक बार फिर विरोध के सुर उठने शुरू हो गए हैं। पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने उनसे किए गए वादे पूरे नहीं होने पर नाराजगी जताई है। पायलट ने खुलकर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि 10 महीने हो गए हैं और उनसे किए वादे पूरे नहीं किए गए हैं। पायलट ने कहा, ‘मुझे समझाया गया था कि सुलह कमेटी तेजी से एक्शन लेगी लेकिन आधा कार्यकाल पूरा हो चुका है और वे मुद्दे अब भी अनसुलझे ही हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिन कार्यकर्ताओं ने पार्टी को सत्ता में लाने के लिए रात-दिन मेहनत की और अपना सब कुछ लगा दिया उनकी सुनवाई ही नहीं हो रही है।’

Advertisement

कांग्रेस में चर्चाओं का बाजार गर्म

पायलट का बयान ऐसे वक्त आया है जब उनके समर्थक हेमाराम चौधरी ने इलाके के विकास के कामों की अनदेखी के मुद्दे पर 18 मई को इस्तीफा दे दिया था। वहीं दो दिन पहले पायलट खेमे के विधायक पीआर मीणा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बजट की 3 महीने बाद जमकर तारीफ की। कहा जा रहा है कि यह बयान सीएम के दबाव में दिया गया था।

राजस्थान कांग्रेस में फिर से बगावत की बू

कांग्रेस में फिर बगावत की बू आने लगी है। सरकार को अपनी एजेंसियों से इस बात का इनपुट मिला है कि कुछ विधायक फिर से दिल्ली जाने की तैयारी कर रहे हैं। इसके मिलने के बाद सरकार चौकन्नी हो गई है। सरकार के एक सीनियर ब्यूरोक्रेट ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पिछली बार की तरह सेंधमारी रोकने के लिए सरकार इस बार भी अपनी सीमाओं को सील करने के आदेश जारी करने की तैयारी में है।

फिर से दिल्ली जाने की तैयारी में विधायक, सीमा सील करने की तैयारी में गहलोत सरकार

पिछले साल भी पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट बगावत कर अपने समर्थक विधायकों के साथ दिल्ली जा बैठे थे। कुछ और विधायक भी दिल्ली जाने की तैयारी में थे कि ऐन वक्त पर सरकार ने कोरोना का हवाला देते हुए सीमाएं सील कर दीं। गहलोत ऐन वक्त पर सीमाएं सील करने का फैसला नहीं लेते तो 5-7 और विधायक दिल्ली चले जाते और सरकार संकट में आ जाती।

राजस्थान और पंजाब के हालात करीब-करीब एक जैसे

राजस्थान और पंजाब के हालात करीब-करीब एक जैसे हैं। यहां सीएम अशोक गहलोत और पायलट के बीच विवाद है, जबकि पंजाब में सीएम अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू आमने-सामने हैं। प्रदेश में 10 महीने पहले सुलह कमेटी बनी थी, लेकिन अब तक अपनी रिपोर्ट नहीं दे पाई। वहीं, पंजाब में 29 मई यानी सिर्फ 10 दिन पहले ही बनी सुलह कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी। अब माना जा रहा है कि सिद्धू और उनके समर्थकों को अब पंजाब सरकार की सत्ता में अहम हिस्सेदारी मिल जाएगी। दलितों को भी महत्व मिल सकता है। क्योंकि भाजपा ने दलित सीएम व अकाली ने दलित डिप्टी सीएम का पासा फेंका है।

Read also: बिहार में सियासी बवंडर की आहट, एक दूसरे को घेरने में लगे हैं NDA के सभी घटक दल

Read also: खाली हाथ रह जाएंगे नवजोत सिंह सिद्धू , कुछ नहीं देंगे मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह!

अभय पाण्डेय
आप एक युवा पत्रकार हैं। देश के कई प्रतिष्ठित समाचार चैनलों, अखबारों और पत्रिकाओं को बतौर संवाददाता अपनी सेवाएं दे चुके अभय ने वर्ष 2004 में PTN News के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। इनकी कई ख़बरों ने राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!