5G से होगा गांवों का कायाकल्प, ‘जियो गऊ समृद्धि’ से लंपी जैसी बीमारियां होंगी बेअसर

393

नई दिल्लीः जाने माने उद्योगपति मुकेश अंबानी की कंपनी Reliance Jio ने कुछ ऐसे 5G सॉल्युशन्स डेवलेप किए हैं, जो ग्रामीण भारत की काया पलट करने की ताकत रखते हैं। ये 5G सॉल्युशन्स गांवों में खेती-बाड़ी से लेकर पशुपालन तक सभी के तौर तरीकों को बदल कर रख देंगे। मुकेश अंबानी ने 5G टेक्नोलॉजी को कामधुने करार दिया है, ऐसी टेक्नोलॉजी जो शहरों के साथ गांवों के लिए भी वरदान साबित होगी।

हाल ही में लंपी बीमारी ने हजारों पशुओं को लील लिया और एक ऐसे प्रोडक्ट की जरूरत महसूस होने लगी जो समय रहते पशुओं की बीमारी की जानकारी दे दे। ‘जियो गऊ समृद्धि’ के नाम से रिलायंस जियो ऐसा ही एक 5G कनेक्टिड डिवाइस डेवलेप किया है। 5 साल तक काम करने वाले और 4 इंच के इस डिवाइस को पशुओं के गले में घंटी की तरह बांध देना है और बाकी काम ‘जियो गऊ समृद्धि’ करेगा। देश में करीब 30 करोड़ दुधारू पशु हैं ऐसे में सिर्फ 5G की स्पीड और लो लेटेंसी के जरिए ही इतने सारे पशुओं पर एक साथ नजर रखी जा सकती है।

पशु ने कब खाना खाया, कब पानी पिया, कितनी देर जुगाली की यह सब जानकारी मोशन डिटेक्ट करने वाला यह डिवाइस पशुपालक को देता रहेगा। वैसे तो हर पशुपालक जानता ही है कि पशु बीमार पड़ने से पूर्व जुगाली कम कर देता है या बंद कर देता है। पुश के व जुगाली कम या बंद करते ही यह पशुपालक को अलर्ट जारी कर देगा। डिवाइस पशु के गर्भाधारण का सही वक्त भी बताएगा।

खेती बाड़ी और मिट्टी की सेहत का ख्याल रखने का काम भी अब जियो-कृषि 5G डिवाइस से किया जा सकेगा। कितनी बारिश हुई है, मिट्टी और वातावरण में कितनी नमी है, अत्याधिक गर्मी और पाले की सूचना यह डिवाइस रियल टाइम में किसानों तक पहुंचाएगा। यहां तक कि किस खास मौसम की परिस्थिती में कौन सा कीड़ा फसल पर हमला कर सकता है यह अलर्ट भी किसानों को जियो-कृषि डिवाइस देगा।

जियो ने ऐसे ड्रोन सॉल्युशन बनाए हैं जो 5G कनेक्टिड हैं। यह ड्रोन जियो-कृषि डिवाइस से डेटा कलेक्ट करके, फसल पर कीड़ा लगने की आशंका से पहले ही दवा का छिड़काव कर देगा। और तमाम सावधानियों के बावजूद भी अगर फसल में कीड़ा लग जाता है तो यह ड्रोन इतने इंटेलिजेंट हैं कि केवल उसी जगह पर छिड़काव करेंगे जहां फसल में कीड़े लगे होंगे।  मिट्टी अच्छी होगी तो फसल भी लहलहाएगी और गांव समृद्ध बनेंगे।

Previous articleभरूच में ₹8,000 करोड़ से अधिक लागत की कई परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास
Next article‘अमित शाह के बिहार दौरे से JDU और RJD में डर, बेचैनी में कर रहे योजनाओं की चोरी’
With the system... Against the system