26.1 C
New Delhi
Sunday, September 19, 2021

भारत के सबसे डरावने रेलवे स्टेशन, जहां शाम होते ही पसर जाता है सन्नाटा

नई दिल्लीः भारतीय रेलवे का नेटवर्क एशिया का दूसरा और दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। परिवहन का यह तरीका परिवहन के सबसे सुविधाजनक साधनों में से एक है। हर दिन लाखों लोग ट्रेन से यात्रा करते हैं। बता दें कि भारत में करीब 8000 रेलवे स्टेशन हैं। इनमें से कुछ स्टेशन इतने डरावने हैं कि शाम के समय पूरी तरह सन्नाटा पसरा रहता है। कुछ लोग इन स्टेशनों को भूतिया भी मानते हैं।

Advertisement

नैनी जंक्शन

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में नैनी जंक्शन को भी भूतिया माना जाता है। इस रेलवे स्टेशन के पास नैनी जेल है। कई स्वतंत्रता सेनानियों को देश की स्वतंत्रता में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए नैनी जेल में कैद किया गया था। कैदियों को कई तरह की यातनाओं का सामना करना पड़ा। यातना के परिणामस्वरूप कई कैदियों की मृत्यु हो गई। लोगों का मानना है कि नैनी जंक्शन पर स्वतंत्रता सेनानियों की आत्माएं घूमती हैं।

Advertisement

चित्तूर रेलवे स्टेशन

आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में चित्तूर रेलवे स्टेशन भी सबसे डरावने रेलवे स्टेशनों में से एक है। स्टेशन के आसपास रहने वाले लोगों का मानना है कि हरि सिंह नाम का एक सीआरपीएफ जवान काफी समय पहले यहां ट्रेन से उतरा था। ट्रेन से उतरने के बाद आरपीएफ और टीटीई ने उसे इतनी जोर से मारा कि उसकी मौत हो गई। इस घटना के तुरंत बाद हरि सिंह की आत्मा न्याय के लिए रेलवे स्टेशन पर भटकती रही।

Advertisement

मुलुंड रेलवे स्टेशन

मुंबई का मुलुंड रेलवे स्टेशन भी भुतहा रेलवे स्टेशनों में गिना जाता है। स्टेशन पर पहुंचने वाले यात्रियों और आसपास रहने वाले लोगों का दावा है कि वे लोगों के चीखने-चिल्लाने के साथ-साथ रोने की आवाज भी सुन सकते हैं।

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन

पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले में स्थित बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन की कहानी बेहद दिलचस्प है। प्रेतवाधित दावों के चलते 42 साल से बंद था रेलवे स्टेशन। हालांकि, 2009 में इसे फिर से खोल दिया गया।

बडोग रेलवे स्टेशन

प्राकृति की गोद में बसे हिमाचल प्रदेश के सोलन में स्थित है बडोग रेलवे स्टेशन। कालका-शिमला रेल मार्ग पर स्थित यह स्टेशन जितना खूबसूरत है उतना ही डरावना और भूतिया भी है। बडोग रेलवे स्टेशन के ठीक बगल में एक सुरंग है। सुरंग का निर्माण ब्रिटिश इंजीनियर कर्नल बडोगे ने किया था, लेकिन बाद में उन्होंने आत्महत्या कर ली। लोगों का मानना है कि कर्नल बडोग की आत्मा इस सुरंग में घूमती है।

नोट: यह लेख अन्य लेखों से प्राप्त जानकारी के आधार पर साझा किया गया है, हम इसकी सत्यता का दावा नहीं करते।

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!