24 C
New Delhi
Sunday, February 25, 2024
-Advertisement-

मोदी के नाम गहलोत का पत्र, लिखा राजस्थान में चुनी हुई सरकार को गिराने की कोशिश

जयपुर: राजस्थान में पैदा हुए सियासी हालात पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम चिठ्ठी लिखी। इसमें उन्होंने आरोप लगाया कि राजस्थान में चुनी हुई सरकार को गिराने की कोशिश हो रही है। इसमें केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और भाजपा, कांग्रेस के कुछ नेता शामिल हैं।

शेखावत ने पत्र में लिखा, ‘‘मैं आपका ध्यान राज्यों में चुनी हुई सरकारों को लोकतांत्रिक मर्यादाओं के विपरीत हॉर्स ट्रेडिंग के जरिए गिराने के लिए किए जा रहे प्रयासों की ओर खींचना चाहूंगा। हमारे संविधान में बहुदलीय व्यवस्था के कारण राज्यों और केंद्र में अलग-अलग दलों की सरकारें चुनी जाती हैं। यह हमारे लोकतंत्र की खूबसूरती ही है कि इन सरकारों ने दलगत राजनीति से ऊपर उठकर लोकहित को सबसे ऊपर करते हुए कार्य किया।’’

जनमत का घोर अपमान

‘‘पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सरकार द्वारा 1985 में बनाए गए दल बदल निरोधक कानून एवं अटल बिहारी वाजपेयी सरकार द्वारा किए गए संशोधन की भावनाओं को दरकिनार कर पिछले कुछ समय से लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई राज्य सरकारों को अस्थिर करने का प्रयास किया जा रहा है। यह जनमत का घोर अपमान है। कर्नाटक और मध्यप्रदेश इसके उदाहरण हैं।’’

‘‘कोरोना के दौर में जीवन रक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। ऐसे में राजस्थान में चुनी सरकार को गिराने का प्रयास किया जा रहा है। इस कृत्य में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत भाजपा के अन्य नेता और हमारे दल के कुछ अति महत्वाकांक्षी नेता शामिल हैं। जिनमें से एक भंवरलाल शर्मा जैसे वरिष्ठ नेता ने भाजपा नेता होने के बावजूद भैरोंसिंह सरकार को भी
विधायकों की खरीद फरोख्त कर गिराने का प्रयास किया था। जिसका मैंने खुद तत्कालीन राज्यपाल बलिराम भगत और प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव से मिलकर विरोध किया था।’’

कोरोना प्रबंधन छोड़ राज्य सरकार गिराने का षड्यंत्र

गहलोत ने लिखा, ‘‘मुझे अफसोस रहेगा कि जहां एक तरफ केंद्र और राज्य सरकार पर जीवन और आजीविका को बचाने की जिम्मेदारी है। उस बीच केंद्र में सत्ता पक्ष कैसे कोरोना प्रबंधन छोड़कर कांग्रेस की राज्य सरकार को गिराने के षड्यंत्र में मुख्य भूमिका निभा सकता है। मध्यप्रदेश की घटना के दौरान भी आपकी पार्टी देशभर में बदनाम हुई थी। मुझे नहीं
पता आपको किस हद तक इस बात की जानकारी है, या आपको गुमराह किया जा रहा है। इतिहास ऐसी हरकत करने में भागीदार लोगों को कभी माफ नहीं करेगा।’’