26.1 C
New Delhi
Sunday, September 19, 2021

कोरोना संक्रमित के बोलने से भी समीप खड़े व्यक्ति में हो सकता है संक्रमण!

पटनाः पहल के चिकित्सा निदेशक एवं वरिष्ठ फिजीशियन डॉक्टर दिवाकर तेजस्वी ने कोरोना संक्रमण से जुड़ी खास जानकरियां साझा की हैं। दिवाकर तेजस्वी ने बताया है कि कोरोना वायरस का संक्रमण मुख्यत छींकने, खांसने और दी जैसे शब्द को बोलने से सर्वाधिक होता हैं।

Advertisement

डॉक्टर तेजस्वी ने एक शोध का हवाला देते हुए कहा है कि कोरोना वायरस का संक्रमण छींकने के क्रम में करीब 25 हजार छोटी बुंदें (Droplet Nuclei), खांसने वक्त करीब 4-5 हजार और 3 बार स्टे हेल्दी (Stay Healthy) – “दी” बोलने के क्रम में 112 से 6700 छोटी बुंदें (Droplet Nuclei) हवा में फैल सकती हैं। इनके द्वारा बिना किसी लक्षण (Asymptomatic) के भी कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति केवल बोलने के क्रम में नजदीक खड़े किसी स्वस्थ व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है।

Advertisement

डॉक्टर दिवाकर तेजस्वी के मुताबिक एहतियात के तौर पर यह जरूरी है कि दो व्यक्तियों के बीच कम से कम 6 फिट की दूरी का ख़याल रखा जाये, ऐसा करने से संक्रमण की संभावनाएं क्षीण हो जाती हैं। ऐसा देखा गया है कि यदि सभी व्यक्ति मास्क का प्रयोग करते हैं, तो एक व्यक्ति से दूसरे में होने वाले संक्रमण को रोका जा सकता है।

Advertisement

बिहार में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए डॉक्टर तेजस्वी ने सबों से अपील की है कि लोग घरों के अंदर रहें। घर हो या बाहर, हर जगह सास्क का प्रयोग करें। एक दूसरे से कम से कम 6 फिट की दूरी बनाए रखें और साबुन-पानी या सैनेटाइजर से बार-बार हाथ को साफ करते रहें।

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!