21.3 C
New Delhi
Friday, February 26, 2021

राजनीति में धमाकाः पुष्पम प्रिया लड़ेंगी बांकीपुर सीट से चुनाव, देंगी भाजपा को चुनौती

पटनाः विधानसभा चुनाव को लेकर चल रही सियासत के बीच अपने को अगला मुख्यमंत्री बताने वाली प्लुरल्स पार्टी की प्रमुख पुष्पम प्रिया चौधरी पटना के बांकीपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगी। यह सीट भाजपा के नीतिन नवीन की है। वह एक और सीट से चुनाव लड़ेंगी लेकिन इसकी घोषणा अभी नहीं हुई है। देखना दिलचस्प होगा कि 8 महीने से चल रहा उसका चुनावी अभियान कितना सफल होता है।

समृद्ध बिहार की वापसी का दावा

रोचक बात यह है कि राजनीति में यह पुष्पम प्रिया का पहला प्रयोग है। वह मूल रूप से दरभंगा ज़िले की हैं। उसके पिता विनोद चौधरी जदयू नेता और एमएलसी रह चुके हैं। इसी साल मार्च में प्रदेश के अखबारों में विज्ञापन जारी कर उन्होंने खुद को बिहार के मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार घोषित कर दिया था। पार्टी का लोगो है सफ़ेद घोड़ा, जिस पर पंख लगे हैं। इसे शक्ति और तीव्रता का प्रतीक माना गया है। पार्टी का नारा है ‘जन गण सबका शासन’।

Advertisement

सकारात्मक राजनीति की पक्षधर पुष्पम

पुष्पम अपनी बात फेसबुक से जाहिर करती है। वह कहती हैं कि वह विकास के लिए सकारात्मक राजनीति करेंगी और मुख्यमंत्री बनने पर अगले 10 वर्षों में बिहार को देश का सबसे विकसित राज्य बना देंगी। बतौर पुष्पम, 2030 तक बिहार को यूरोपीय देशों के बराबर बना दिया जाएगा। उनका कहना है कि बिहार को बेहतर की जरूरत है और बेहतरी संभव है। उन्होंने नीतीश कुमार के गढ़ नालंदा से अपना जनसंपर्क अभियान शुरु किया और अब तक कई जिलों का दौरा कर प्रत्याशी तय कर रही है।

Advertisement

उच्चशिक्षित हैं पुष्पम

प्लूरल्स की वेबसाइट के मुताबिक, उसने लंदन स्कूल ऑफ इकॉनमिक्स से मास्टर्स की डिग्री ली है। इसके अलावा,उन्होंने इंग्लैंड के द इंस्टीट्यूट ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज विश्वविद्यालय से डेवलपमेंट स्टडीज में भी मास्टर्स की डिग्री ली है। वह कहती हैं कि चाणक्य के कहे अनुसार शासक बनने के लिए आवश्यक विषयों मैंने गहन पढ़ाई की है और विकसित समाज के लिए पॉलिसीमेकिंग का कार्य किया है। बिहार के चुनाव में 241 साथियों के साथ सफल होकर न सिर्फ़ पाटलिपुत्र के गौरव की वापसी बल्कि बिहार को 2025 तक भारत में नम्बर एक और 2030 तक विश्व के श्रेष्ठ जगहों में एक बनाने को कृतसंकल्पित हूँ क्योंकि यह बिहार की वापसी का दशक है।

अजय वर्मा
अजय वर्मा
समाचार संपादक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!