12 C
New Delhi
Saturday, November 28, 2020

India Ideas Summit: भारत में निवेश के लिए इससे बेहतर मौका नहीं- प्रधानमंत्री मोदी

नई दिल्ली: ‘इंडिया आइडियाज समिट’ (India Ideas Summit) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत में निवेश के लिए इससे बेहतर मौका नहीं हो सकता है। पिछले 6 वर्षों में निवेश के लिए बेहतर माहौल बनाने का काम किया गया है। बीमा, एनर्जी, हेल्थकयर, कृषि और टेक्नोलॉजी सेक्टर में निवेश किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को ‘इंडिया आइडियाज समिट’ (India Ideas Summit) को संबोधित को करते हुए अमेरिकी निवेशकों को फाइनेंस और इंश्योरेंस सेक्टर में निवेश की सलाह दी। सरकार ने निवेश के लिए जो माहौल तैयार किया है। उसका नतीजा है कि वर्ल्ड बैंक की इज ऑफ डूइंड रैंकिंग में भारत की स्थिति सुधरी है।

Advertisement

इंश्योेरेंस सेक्टर में 100 फीसदी FDI को मंजूरी

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में इंश्योरेंस सेक्टर में अपार संभावनाएं हैं। सरकार कई बीमा योजनाएं चला रही हैं। उन्होंने आयुष्मान भारत और पीएम फसल बीमा योजना का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इन सेक्टर्स में निवेश से ग्रोथ आएगी।

Advertisement

पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने इंश्योरेंस सेक्टर में अब 100 फीसदी तक FDI को मंजूरी दे दी है। भारत अवसरों के देश के रूप में उभर रहा है। इसके अलावा अमेरिकियों से कहा कि डिफेंस और स्पेस सेक्टर में आकर निवेश करें। हमने डिफेंस में निवेश के लिए FDI को बढ़ाकर 74 फीसदी कर दिया है।

अमेरीका से सहयोग की उम्मीद

पीएम ने कहा कि भारत में निवेश का अवसर काफी बड़ा है। आज दुनिया भारत की तरफ देख रही है। भारत में खुलेपन, अवसरों और टेक्नॉलजी का एक बेहतरीन मिश्रण है। उन्होंने कहा कोरोना संकट के बीच भी भारत ने अपनी मैन्युफैक्चरिंग की क्षमता को साबित किया है। इसे और आगे ले जाने के लिए अमेरिका का सहयोग चाहिए। कृषि में सुधार से बेहतर परिणाम मिल रहे हैं।

पीएम मोदी ने एनर्जी सेक्टर में निवेश करने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा कि भारत खुद को गैस आधारित इकोनॉमी में बदल रहा है। इस क्षेत्र में अमेरिकी कंपनियों के लिए काफी अवसर होंगे। क्लीन एनर्जी सेक्टर में भी अमेरिकी कंपनियों के लिए काफी अवसर होंगे।

भारत बन रहा है अवसरों का देश

पीएम मोदी ने कहा कि भारत अवसरों का देश बन रहा है, जहां निवेश का बेहतर माहौल है। भारत में टेक्नोलॉजी, कृषि, हेल्थकेयर, एनर्जी, इंफ्रास्ट्रक्चर, सिविल एविएशन, रक्षा, अंतरिक्ष, फाइनेंस और इंश्योरेंस के क्षेत्र में निवेश के अपार अवसर हैं।

पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं आपको टेक्नोलॉजी सेक्टर का एक उदाहरण देता हूं। हाल ही में भारत को लेकर एक रिपोर्ट आई, जिसमें पहली बार कहा गया कि भारत में शहरी इंटरनेट यूजर से ज्यादा रूरल इंटरनेट यूजर हैं। टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में उपलब्ध अवसरों में 5G, बिग डेटा एनालिसिस, क्वांटम कम्प्यूटिंग, ब्लॉक चैन और इंटरनेट समेत अन्य शामिल हैं।

कृषि के क्षेत्र में ऐतिहासिक सुधार

पीएम मोदी ने कहा कि हाल ही में भारत ने कृषि के क्षेत्र में ऐतिहासिक सुधार किया है। वहां भी निवेश के अवसर हैं, जिनमें एग्रीकल्चरल इनपुट्स एंड मशीनरी, एग्रीकल्चर सप्लाई चैन मैनेजमेंट, रेडी-टू-ईट आइटम्स, फिशरीज और ऑर्गेनिक प्रोड्यूस शामिल हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि भारत हेल्थ सेक्टर में निवेश करने के लिए आपको आमंत्रित करता है। भारत का हेल्थकेयर सेक्टर प्रतिवर्ष 22 फीसदी की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है।

भारत अमेरिका का उभरता हुआ रक्षा साझेदार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन से पहले अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने इंडिया आइडियाज समिट (India Ideas Summit) में कहा कि अमेरिका ने पीएम मोदी को अगले जी 7 शिखर सम्मेलन में आमंत्रित किया है, जहां हम अंतरराष्ट्रीय समृद्धि तंत्र को आगे बढ़ाएंगे।

उन्होंने कहा, ‘हम दुनिया के सबसे पुराने और सबसे समृद्ध लोकतंत्र हैं और यह महत्वपूर्ण है कि हमारे जैसे लोकतंत्र एक साथ काम करें। भारत इंडो-पैसिफिक और विश्व में अमेरिका का उभरता हुआ रक्षा साझेदार है। उन्होंने यह भी कहा, ‘मैं विशेष रूप से टिकटॉक सहित 59 चीनी मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाने के भारत के हालिया फैसले की सराहना करता हूं, जो भारतीय लोगों के लिए गंभीर सुरक्षा जोखिम पेश करते हैं।’

दुनिया को बेहतर भविष्य की जरूरत

इस समिट का आयोजन ‘यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल’ (USIBC) ने किया। इस साल ‘यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल’ के गठन के 45 वर्ष पूरे होने जा रहे हैं। इस मौके पर ये खास कार्यक्रम आयोजित किया गया। पीएम मोदी ने भारत और अमेरिका के लोगों को संबोधित किया।

पीएम मोदी ने कहा, ‘USIBC इस साल अपनी 45वीं वर्षगांठ मना रहा है। हम सभी इस बात पर सहमत हैं कि दुनिया को बेहतर भविष्य की जरूरत है। हम सभी को एक साथ आकर बेहतर भविष्य देना होगा। मैं मानता हूं कि भविष्य को लेकर अप्रोच मानव केंद्रित होना चाहिए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!