25.1 C
New Delhi
Sunday, February 25, 2024
-Advertisement-

कौकब कादरी ने की RJD सुप्रीमों लालू यादव को अविलम्ब जेल से रिहा करने की मांग

पटनाः बिहार प्रदेश काँग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने राजद (RJD) सुप्रीमों लालू यादव को अविलंब जेल से रिहा किए जाने की मांग की है। कादरी ने देश में फैले कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा है कि जेल में पुलिस कर्मी, स्वास्थ्य कर्मी व खाने की व्यवस्था करने वाले कर्मियों से लालू के स्वास्थ्य को संक्रमण का खतरा हो सकता है।

कादरी ने कहा कि गम्भीर आपराधिक मामलों के कैदी भी कोरोना के खतरे को देखते हुए विभिन्न राज्य की जेलों से रिहा किये जा रहे हैं, तो ऐसे में लालू प्रसाद को जेल में रखना किसी भी तरह से वाजिब नहीं होगा।

Read also: कोरोना पर सियासतः मनीष सिसोदिया ने BJP पर लगाया घटिया राजनीति का आरोप

बकौल कादरी देश के बड़े जननेताओं में शुमार लालू यादव के गिरते स्वास्थ्य,  हाई ब्लड शुगर और डायबिटीक नेफ्रोपैथी जैसी गम्भीर बीमारी को देखते हुए कोरोना से उनके संक्रमण होने के साथ साथ जीवन को भी ज्यादा खतरा है।

कौकब कादरी का कहना है कि लालू यादव पर हत्या या बलात्कार जैसे गम्भीर मामले भी नहीं हैं इसलिये भी उन्हें मानवता के नाते उनके परिवार के पास जरूर भेजना चाहिये। जमानत, पैरोल, फर्लो या अन्य, जो भी तरीका मानवीय मूल्यों के आधार पर उचित हो उन्हीं आधारों पर उन्हें रिहा कर विशेष गाड़ी से उनके परिवार में उन्हें भेजना अति आवश्यक है।

Read also: तेजस्वी की नीतीश को सलाह, बंद पड़ी अल्कोहल फैक्ट्रियों में सैनिटाइजर बनवाए सरकार

बता दें सुप्रीम कोर्ट ने 23 मार्च को कहा था कि जिन कैदियों को किसी मामले में सात साल या उससे कम की सजा दी गई है और वे जेल में बंद हैं संक्रमण को रोकने के लिए उन्हें पैरोल या अंतरिम जमानत दी जा सकती है। इसके लिए कोर्ट ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को अपने यहां एक उच्चस्तरीय समिति बना कर फैसला लेने का निर्देश देते हुए कहा था कि सजायाफ्ता और विचाराधीन कैदियों को फिलहाल कुछ समय के लिए रिहा किया जा सकता है।

अभय पाण्डेय
अभय पाण्डेय
आप एक युवा पत्रकार हैं। देश के कई प्रतिष्ठित समाचार चैनलों, अखबारों और पत्रिकाओं को बतौर संवाददाता अपनी सेवाएं दे चुके अभय ने वर्ष 2004 में PTN News के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। इनकी कई ख़बरों ने राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरी हैं।