27 C
New Delhi
Thursday, May 6, 2021

कैंसर की दवा विकसित करने में भारतीय शोधकर्ताओं को मिली नई सफलता

नई दिल्लीः कैंसर की दवा विकसित करने में जुटे इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंटिग्रेटिव मेडिसिन (IIIM) जम्मू के शोधकर्ताओं को एक महत्वपूर्ण सफलता मिली है। अपने अध्ययन में शोधकर्ताओं ने एक ऐसे तत्व का पता लगाया है, जिसमें अग्नाशय के कैंसर से संबंधित शुरुआती अध्ययनों में कैंसर-रोधी गुण देखे गए हैं।

कैंसर-रोधी नई रासायनिक इकाई के रूप में पहचाने गए इस तत्व को सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) के न्यू ड्रग्स डिविजन से इन्वेस्टिगेशनल न्यू ड्रग के रूप में मंजूरी मिली है। यह मंजूरी मिलने के बाद अग्नाशय के कैंसर से पीड़ित मरीजों पर IIIM-290 नामक इस तत्व के चिकित्सीय परीक्षण के रास्ते खुल गए हैं। इस प्रस्तावित चिकित्सीय परीक्षण का उद्देश्य अग्नाशय के कैंसर से ग्रस्त रोगियों में इस तत्व के सुरक्षित उपयोग, सहनशीलता और जोखिम का आकलन करना है।

Advertisement

इस दवा के तत्व को पश्चिमी घाट में पाए जाने वाले सफेद देवदार (Dysoxylum binectariferum) की पत्तियों से प्राप्त किया गया है। वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) से संबद्ध IIIM के निदेशक डॉ राम विश्वकर्मा ने कहा है कि “कैंसर सेल लाइन पैनल NCI-60 और चिकित्सकीय रूप से मान्य कैंसर में शामिल प्रोटीन काइनेज के खिलाफ कैंसर-रोधी परीक्षण में प्राकृतिक रूप से प्राप्त तत्व रोहिटुकीन (Rohitukine) को प्रभावी पाया गया है।”

Advertisement

NCI-60 कैंसर सेल लाइन पैनल संभावित कैंसर-रोधी गतिविधि का पता लगाने में यौगिकों की स्क्रीनिंग के लिए उपयोग की जाने वाली मानव कैंसर सेल लाइनों का एक समूह है।

इस अध्ययन में शोधकर्ताओं ने फाइटोकेमिकल परीक्षण किए हैं। IIIM के शोधकर्ता संदीप भराटे ने कहा है कि “चिकित्सीय परीक्षण के लिए एनिमल मॉडल्स में इस तत्व की कैंसर-रोधी गतिविधि पर्याप्त नहीं थी। इसीलिए, प्राकृतिक रूप से प्राप्त इस तत्व में संशोधन करके कुछ नई रासायनिक इकाइयां प्राप्त की गई हैं।”

इन रासायनिक इकाइयों का परीक्षण प्रोटीन काइनेज पर किया गया है। यह प्रोटीन मनुष्य के ऊतकों में पाया जाता है और कैंसरग्रस्त ऊतकों में इस प्रोटीन की मात्रा सामान्य से अधिक पायी जाती है। काइनेज को वास्तव में कैंसर के प्रसार के लिए जिम्मेदार माना जाता है। शोधकर्ताओं ने जिस दवा उम्मीदवारतत्व को अलग किया है, वह काइनेज को बाधित करने के साथ-साथउसकी सघनता को कम करनेमें भी प्रभावी पाया गया है।

डॉ शेखर सी. मांडे, महानिदेशक, CSIR ने इस उपलब्धि पर IIIM के शोधकर्ता संदीप भराटे, सोनाली भराटे, दिलीप मोंढे, शशि भूषण और सुमित गांधी की सराहना की है, जो डॉ राम विश्वकर्मा के नेतृत्व में इस अध्ययन में शामिल थे। इन शोधकर्ताओं ने अग्नाशय के कैंसर के खिलाफ चिकित्सीय परीक्षणों के लिए विनियामक अनुमोदन प्राप्त करने से पहले करीब एक दशक तक अनुसंधान किया है।

आपको बता दें अग्नाशय का कैंसर दुनिया के सबसे आम कैंसर रूपों में 12वें स्थान पर है, लेकिन यह कैंसर से होने वाली मौतों का चौथा प्रमुख कारण है। भारत में अग्नाशय के कैंसर की दर प्रति एक लाख पुरुषों पर 0.5-2.4 और प्रति एक लाख महिलाओं पर 0.2-1.8 है। वैश्विक रूप से, यह सालाना एक लाख से अधिक मौतों का कारण बनता है। इस कैंसर को अनुपचारित कैंसर के प्रकार में से एक माना जाता है, क्योंकि इसका निदान बहुत देर से हो पाता है। अग्नाशय के कैंसर के उपचार के लिए दवाओं की कमी भी एक समस्या है।

Avatar
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!