32.1 C
New Delhi
Saturday, July 24, 2021

क्या कोरोना वैक्सीन से प्रजनन क्षमता पर पड़ता है प्रभाव? जानिए- एक्सपर्ट की राय

नई दिल्लीः कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर समाज में तरह-तरह की भ्रांतिया फैली हैं। ये भ्रांतियां बेवजह ही लोगों के अंदर डर पैदा करती हैं, जिन्हे दूर करने के लिए सरकार और उससे जुड़ी दूसरी एजेंसियां रिसर्चर या एक्सपर्ट की राय से अक्सर कुछ सूचनाएं जारी करती हैं। ऐसी ही एक भ्रांति लोगों के दिलो दिमाग में कोरोना वैक्सीन से प्रजनन क्षमता (Corona Vaccine affect on Fertility) पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर हैं, जिस पर सरकार के एक्सपर्ट ने अपनी राय व्यक्त की है।

कोरोना वैक्सीन से प्रजनन क्षमता पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर राष्ट्रीय टीकाकरण परामर्श समूह (ATAGI) के COVID-19 कार्य समूह के अध्यक्ष डॉ. नरेन्द्र कुमार अरोड़ा ने कई सारे बाते बताईं। उन्होंने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया कि कोरोना वैक्सीन से प्रजनन क्षमता (Corona Vaccine affect on Fertility) पर किसी भी तरह का प्रभाव पड़ता है।

Advertisement

एक साक्षात्कार में डॉ. नरेन्द्र कुमार अरोड़ा ने पोलियो वैक्सीन का हवाला दिया और कहा, जब पोलियो वैक्सीन आई थी और भारत तथा दुनिया के अन्य भागों में दी जा रही थी, तब उस समय भी ऐसी अफवाह फैली थी। उस समय भी यह गलतफहमी पैदा की गई थी कि जिन बच्चों को पोलियो वैक्सीन दी जा रही है, आगे चलकर उन बच्चों की प्रजनन क्षमता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

Advertisement

डॉ. अरोड़ा ने कहा, इस तरह की गलत सूचना एंटी-वैक्सीन लॉबी फैलाती है। हमें यह जानना चाहिये कि सभी वैक्सीनों को कड़े वैज्ञानिक अनुसंधान से गुजरना पड़ता है। किसी भी वैक्सीन में इस तरह का कोई बुरा असर नहीं होता। उन्होंने कहा कि मानवहित में कोरोना वैक्सीन पूरी तरह से परखा गया है, इससे मानव शरीर पर किसी भी तरह का दुस्प्रभाव नहीं पड़ता।

उन्होंने कोरोना वैक्सीन से प्रजनन क्षमता (Corona Vaccine affect on Fertility) पर पड़ने वाले प्रभाव के प्रति आश्वस्त किया और कहा कि इस तरह का कुप्रचार लोगों में गलतफहमी पैदा करता है। हमारा मुख्य ध्यान खुद को कोरोना वायरस से बचाना है, अपने परिवार और समाज को बचाना है। लिहाजा, सबको आगे बढ़कर टीका लगवाना चाहिये।

Read also: विशेषज्ञों से जानिए COVID-19 टीकाकरण पर अक्सर पूछे जाने वाले सवालों के जवाब

Read also: COVID से ठीक होने के 3-6 महीने बाद तक मरीजों को हो सकता है लक्षणों का अनुभव

Read also: Pfizer का दावा- Delta Variant के खिलाफ COVID-19 वैक्सीन लगभग 90% प्रभावी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!