झारखंड के 6 जिलों में स्थापित होंगे सिटी फॉरेस्ट, पर्यटकों के लिए होगी खास व्यवस्था

रांचीः शहर से सटे बाहरी इलाके में जंगल में रहने का अनुभव करना चाहते हैं, तो कुछ दिन इंतजार करिए, आपकी यह इक्षा जरूर पूर्ण होगी! जी हाँ, झारखंड सरकार ने प्रदेश के छह जिलों में विशेष एन्क्लेव विकसित करने का प्रस्ताव दिया है, जिन्हें सिटी फॉरेस्ट (City Forest) के नाम से जाना जाएगा। सिटी फॉरेस्ट में आम के अलावें दुर्लभ पौधों और फूलों के जंगलों से घिरे घर होंगे। केंद्र द्वारा वित्त पोषित योजना के तहत सिटी फॉरेस्ट की स्थापना का मुख्य उद्देश्य लोगों को जैव विविधता के सार को समझने में मदद करना और उन्हें पारिस्थितिक संतुलन और पर्यावरण के संरक्षण के लिए प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित करना है।

सहायक मुख्य वन संरक्षक, झारखंड, संजीव कुमार ने कहा कि 8 करोड़ रुपये की लागत से शहर के वन क्षेत्र को विकसित करने के लिए रांची, हजारीबाग, गिरिडीह, धनबाद, बोकारो और सरायकेला-खरसावां जैसे छह जिलों की पहचान की गई है। कुमार ने कहा, “योजना न केवल राज्य को जंगल के संरक्षण में मदद करेगी, बल्कि क्षेत्र में पर्यटन को भी बढ़ावा देगी।”

इन जगहों पर स्थापित होंगे City Forest

रिपोर्टों के अनुसार, राज्य वन विभाग ने हजारीबाग के कन्हारी हिल के पास 85 एकड़ भूमि की पहचान की है, जहां सिटी फॉरेस्ट स्थापित किया जाएगा। इसके अलावें यहां आगंतुकों के ठहरने के लिए वृक्षारोपण और सुविधाओं के विकास के लिए 1.83 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई है।

Read also: मोकामा से चलकर गया, नालंदा और नवादा पहुंचेगी गंगा, लोगों की प्यास बुझाएगा गंगाजल

इसी तरह रांची के अंगराहा प्रखंड के बादाम क्षेत्र में 30 एकड़ के भूखंड पर सिटी फॉरेस्ट होने की पहचान की गई है। यह इलाका साल के पेड़ों के जंगल के लिए जाना जाता है। गिरिडीह अपने बाहरी इलाके में 10 एकड़ जमीन पर यही सुविधा विकसित करेगा। धनबाद, बोकारो और सरकेला-खरसावां जिलों में सिटी फॉरेस्ट के विकास के लिए सुविधाजनक स्थानों की पहचान की जा रही है।

City Forest में होंगी ये सुविधाएं

सिटी फॉरेस्ट में औषधीय पौधों और बांस के पेड़ों सहित दुर्लभ प्रजातियों के पौधे होने की संभावना है। जंगलों में विशिष्ट रूप से पाए जाने वाले फूलों को आम लोगों के साथ आगंतुकों के आवासों के आसपास उगाया जाएगा। आगंतुकों के क्षेत्र में कैंटीन होगी, जो बायोडिग्रेडेबल बर्तनों पर व्यंजन पेश करेगी। सौर ऊर्जा से पूरा परिसर रोशन होगा। बच्चों के लिए योग शिविर भी लगाए जाएंगे ताकि छोटे बच्चों को उनमें भाग लेने दिया जा सके। आगंतुकों को वनों की विशेषताओं को जानने और प्राकृतिक सीमाओं के नीचे रहने के सार को समझने में मदद करने के लिए गाइड होगा।

सिटी फॉरेस्ट प्रोजेक्ट पर काम शुरू

अधिकारियों ने कहा कि सिटी फॉरेस्ट की परियोजना पर काम 5 जून को शुरू होने की संभावना है, जो विश्व पर्यावरण दिवस का प्रतीक है। चूंकि यह केंद्र सरकार की योजना है, राज्य सरकार के अधिकारी केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार काम करेंगे।

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system