20.7 C
New Delhi
Saturday, March 2, 2024
-Advertisement-

JDU विधायक ने नीतीश की पूर्ण शराबबंदी पर उठाई उंगली, समर्थकों संग थाने पर दिया धरना

सीवानः नशे की हालत में बार बालाओं संग ठुमके लगाकर सुर्खिंयां बटोरने वाले बड़हरिया के JDU विधायक श्याम बहादुर सिंह एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार चर्चा बार बालाओं संग कमर मटकाने को लेकर नहीं है, बल्कि अपनी सरकार और सिस्टम के खिलाफ मोर्चा संभालने को लेकर है।

दरअसल बड़हरिया से JDU विधायक श्याम बहादुर सिंह इस बात को लेकर सरकार पर नाराज हैं कि पुलिस ने शराब रखने के शक पर उनके भाई के घर पर छापेमारी कर दी थी। नाराज विधायक श्याम बहादुर सिंह ने पहले SP सीवान से इस बात की शिकायत की और दोषी थानाध्यक्ष एवं अवर नीरिक्षक के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की, लेकिन जब एसपी की तरफ से कार्रवाई नहीं की गई तो उन्होंने रविवार को खुद ही मोर्चा संभा लिया।

JDU विधायक श्याम बहादुर सिंह ने दिया थाना पर धरना

विधायक अपने समर्थकों से साथ घंटों जीबी नगर पुलिस चौंकी के सामने धरना पर बैठे रहे और शराब बंदी पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नीति और सिस्टम को कोसते रहे। उन्हों ने तो यहां तक कह दिया कि स्थानीय पुलिस की मिली भगत से थाना क्षेत्र में कई स्थानों पर शराब की खुलेआम बिक्री की जा रही है जिसकी सबूत भी उनके पास मौजुद है।

शराब रखने की सूचना पर पुलिस ने विधायक के भाई के घर की थी छापेमारी

जानकारी के मुताबिक पुलिस को गुप्त सुचना मिली थी कि विधायक श्याम बहादुर सिंह के भाई अमरजीत सिंह ने अपने घर में शराब का संग्रह किया है। सूचना पर जीबी नगर थाने की पुलिस टीम अमरजीत सिंह के घर पर पर छापेमारी करने पहुंच गई। हालांकि पुलिस को वहां कुछ नहीं मिला और वह बैरंग ही लौट आई।

JDU विधायक ने एसपी को लिखी थी चिट्ठी

इसे लेकर JDU विधायक श्याम बहादुर सिंह ने पने ही सरकार की पुलिस पर सवालिया निशान लगाते हुए पुलिस अधीक्षक अभिनव कुमार को पत्र लिखकर भाई के घर छापेमारी करने वाले थाना प्रभारी और अवर निरीक्षक पर करवाई करने की मांग की। उन्होंने ये भी चेतावनी दी थी कि अगर करवाई नही की गई तो वे थाना के सामने धरना पर बैठेंगे। विधायक जी के पत्र पर करवाई हुई नही हुई जिस पर नाराज बिधायक जी अपने दल बल के साथ थाना पर धरना पर बैठ गए।

बहरहाल सूबे के मुखिया नीतीश कुमार के मताबिक बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। ऐसे में नीतीश कुमार की पार्टी के विधायक द्वारा ये आरोप लगाया जाना कि पुलिस की मिली भगत से शराब की बिक्री की जा रही बेहद चिंन्ता का विषय है।