25.1 C
New Delhi
Sunday, February 25, 2024
-Advertisement-

करोड़ो के आर्थिक पैकेज की घोषणा के साथ पीएम ने दिए लॉकडाउन बढ़ाने के संकेत

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री मोदी ने लॉकडाउन बढ़ाने के संकेत दे दिए हैं। कोरोना संकट के बीच आज 5 वीं बार राष्ट्र को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने इस बात की तरफ इशारा करते हुए कहा कि इस संबंध में राज्यों से सुझाव आ रहे हैं। लॉकडाउन 4.0 से जुड़ी जानकारी 18 मई से पहले दे दी जाएगी।

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि विशेषज्ञ बताते हैं कि कोरोना लंबे समय तक हमारे जीवन का हिस्सा बना रहेगा, लेकिन हम इसके ईर्द-गिर्द नहीं बने रहना है, हमें आगे बढ़ना होगा। हम मास्क लगाएंगे, दो गज दूरी का ख्याल रखेंगे और  अन्य नियमों का पालन करते हुए कोरोना को मात देंगे। उन्होंने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है कि हम सभी नियमों का पालन करते हुए कोरोना से लड़ेंगे भी और आगे बढ़ेंगे भी। आप अपने परिवार और करीबियों का जरूर ध्यान रखिए।

पीएम मोदी ने कहा, ‘कोरोना संक्रमण से मुकालबा करते हुए दुनिया को अब चार महीने से ज्यादा समय बीत चुके हैं। इस दौरान तमाम देशों के 42 लाख से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हुए हैं। पौने तीन लाख से ज्यादा लोगों की दुखद मृत्यु हुई है। भारत में भी लोगों ने अपनों को खोया है। साथियों एक वायरस ने दुनिया को तहस-नहस कर दिया है. सारी दुनिया जिंदगी बचाने में एक प्रकार से जंग में जुटी है। हमने ऐसा संकट न देखा है, न ही सुना है। निश्चित तौर पर मानव जाति के लिए ये सबकुछ अकल्पनीय है। ये क्राइसिस अभूतपूर्व है, लेकिन थकना, हारना, टूटना, बिखरना मानव को मंजूर नहीं है।,

उन्होंने आगे कहा ‘हमें सतर्क रहते हुए, सभी नियमों का पालन करते हुए अब हमें बचना भी है और आगे बढ़ना भी है। आज जब दुनिया संकट में है, तब हमें अपना संकल्प और मजबूतर करना होगा, हमारा संकल्प इस संकट से भी विराट होगा। साथियों, हम पिछली शताब्दी से भी लगातार सुनते आए हैं कि 21वीं सदी हिंदुस्तान की है। कोरोना संकट के बाद भी दुनिया में जो स्थितियां बन रही हैं, उसे भी हम निरंतर देख रहे हैं।’

इस संबोधन के दौरान पीएम मोदी ने 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की। इसकी घोषणा करते हुए उन्होंने ने कहा, ‘ये पैकेज भारत की GDP का करीब-करीब 10 प्रतिशत है। यह पैकेज 2020 में देश की विकास यात्रा को एक नई गति देगा। आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को सिद्ध करने के लिए इस पैकेज में लैंड, लिक्विडिटि, लेबर, कुटीर उद्योग, लघु उद्योग सभी के लिए बहुत कुछ है। ये पैकेज देश के उस किसान के लिए है, जो दिन-रात परिश्रम कर रहा है। ये देश के मध्यम वर्ग के लिए है। ये पैकेज भारत के उद्योग के लिए है। कल से आने वाले कुछ दिनों तक वित्त मंत्री द्वारा इस आर्थिक पैकेज की विस्तार से जानकारी दी जाएगी।’

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system