27 C
New Delhi
Thursday, May 6, 2021

विकास दुबे एनकाउंटर मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पाले में

नई दिल्ली: विकास दुबे एनकाउंटर मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पाले में चला गया है। आयोग के पास तहसीन पूनावाला ने शिकायत दर्ज कराई है। उत्तर प्रदेश के कानपुर में गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। एनकाउंटर का यह मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग तक पहुंच गया है। तहसीन पूनावाला की ओर से शिकायत दर्ज की गई है।

इस शिकायत में गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के अलावा उसके पांच साथियों के मारे जाने की बात शामिल की गई है। साथ ही लिखा गया है कि विकास दुबे ने खुद सभी के सामने मध्यप्रदेश में उज्जैन में सरेंडर किया था।

Advertisement

पलटी हुई गाड़ी में अलग

इसके साथ ही दावा किया गया है कि वीडियो फुटेज में विकास दुबे टाटा सफारी में बैठा हुआ दिख रहा है। पलटी हुई दिखाई जा रही गाड़ी दूसरी है। ऐसे में यह एनकाउंटर संदेहास्पद लगता है। इस मामले की जांच के लिए अपील की गई है।

Advertisement

तहसीन पूनावाला ने आरोप लगाया गया कि विकास दुबे को इसलिए फर्जी एनकाउंटर में मार दिया गया। जिससे विकास के राजनीतिक और पुलिस महकमे में संबंध सामने ना आ पाएं।

एनकाउंटर पर कई तरह के सवाल

गौरतलब है कि जिस तरह से विकास दुबे का एनकाउंटर हुआ है। उस पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। एनकाउंटर साइट से कुछ दूर पहले मीडिया को क्यों रोका गया? सरेंडर के बाद भी विकास दुबे के भागने की बात कितनी जायज़ है? उत्तर प्रदेश पुलिस की अराजकता पहले से सवालिया निशान हैं? ऐसे में पुलिस की थ्योरी को कितना सही माना जाये? यदि विकास को भागना होता तो वह सरेंडर क्यों करता?

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आरोप लगाया है कि विकास दुबे का एनकाउंटर इसलिए कर दिया गया। जिससे राजनीतिक राज सामने ना आ सकें। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी विकास दुबे के एनकाउंटर पर सवाल खड़े किए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!