24 C
New Delhi
Thursday, February 22, 2024
-Advertisement-

टोक्यो ओलंपिक तैयारियों को झटका, वाडा ने एनडीटीएल का निलंबन बढ़ाया

नई दिल्ली: भारत की ओलंपिक की तैयारियों को बड़ा झटका लगा, जब विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (WADA) ने देश की राष्ट्रीय डोप परीक्षण प्रयोगशाला (NDTL) के निलंबन को और छह महीने के लिए बढ़ा दिया। वाडा ने कहा कि प्रयोगशाला के अंतरराष्ट्रीय स्तर के अनुरूप नहीं होने के कारण निलंबन बढ़ाया गया।

वाडा ने पिछले साल अगस्त में एनडीटीएल को पहली बार छह महीने के लिए निलंबित किया था। वाडा ने बयान में कहा, ‘विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी ने भारत के नई दिल्ली की राष्ट्रीय डोप परीक्षण प्रयोगशाला की मान्यता दूसरी बार छह महीने के लिए निलंबित कर दी है।’

अंतरराष्ट्रीय मापदंडों पर खरी नहीं

इस निलंबन के कारण एनडीटीएल कोई डोपिंग रोधी गतिविधि नहीं कर पाएगा। वाडा के निरीक्षण में पता चला कि एनडीटीएल प्रयोगशालाओं के अंतरराष्ट्रीय स्तर के मापदंडों पर खरी नहीं उतरती जिसमें प्रयोगशाला का ‘आइसोटोप रेशियो मास स्पेक्ट्रोमेट्री’ भी शामिल है। इस तकनीक का इस्तेमाल प्रतिबंधित पदार्थों की पुष्टि के लिए किया जाता है।

फिलहाल राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) द्वारा एकत्रित किए नमूने मुख्य रूप से दोहा में वाडा से मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला के पास भेजे जाते हैं। वाडा ने फरवरी में दूसरी बार एनडीटीएल का निरीक्षण किया था, लेकिन पाया गया कि सुधारवादी कदम निलंबन हटाने के लिए पर्याप्त नहीं है जिसे अब जनवरी 2021 तक बढ़ा दिया गया है।

अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश

वाडा ने कहा, ‘फरवरी 2020 में जब छह महीने का निलंबन खत्म हुआ और कुछ मापदंडों को सफलतापूर्वक पूरा नहीं किया गया तो वाडा के प्रयोगशाला विशेष समूह ने प्रयोगशाला के खिलाफ आगे की अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू करने की सिफारिश की।’

अनुशासनात्मक समिति को वाडा के अध्यक्ष को सिफारिश का अधिकार होता है और उसने अपनी स्थिति रिपोर्ट में निलंबन बढ़ाने को कहा। वाडा ने हालांकि कहा, ‘निलंबन के दौरान अगर प्रयोगशाला के मापदंडों पर खरी उतरती है, तो वह छह महीने के निलंबन समय से पहले अपनी मान्यता बहाल करने के लिए आवेदन कर सकती है।’

खेल मंत्रालय और एनडीटीएल को बड़ा झटका

हालांकि जिस तरह निलंबन सौंपा गया है, उसके आधार पर इसे छह और महीने के लिए बढ़ाए जाने का प्रावधान है। इसका मतलब हुआ कि एनडीटीएल जुलाई 2021 में टोक्यो ओलंपिक से पहले परीक्षण नहीं कर पाएगा।

डोपिंग से जुड़े मामले देखने वाले वकील पार्थ गोस्वामी ने एक न्यूज एजेंसी को बताया, ‘यह खेल मंत्रालय और एनडीटीएल को बड़ा झटका है। पिछले 11 महीने से नाडा बिना मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला के काम कर रहा है। अब इस निलंबन को छह महीने के लिए बढ़ा दिया गया है।’

उन्होंने कहा, ‘नमूनों को परीक्षण के लिए कतर की प्रयोगशाला में भेजने से लागत बढ़ती है। और नतीजे आने में भी देर लगती है। एनडीटीएल एवं खेल मंत्रालय ने पिछले साल अगस्त में खेल पंचाट में वाडा के निलंबन को चुनौती नहीं दी थी। यह देखना रोचक होगा कि इस बार एनडीटीएल विरोध करता है या नहीं।’