28.1 C
New Delhi
Friday, September 24, 2021

महिलाओं के प्रति नर्म हुआ तालिबान का मिजाज, नो मेन क्लास रुम पढ़ सकती हैं लड़कियां

काबुलः महिलाओं के प्रति सख्त रुख रखने वाले तालिबान का मिजाज अब नर्म लग रहा है। नव गठित तालिबान सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री अब्दुल बकी हक्कानी ने रविवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अफगानिस्तान में महिलाएं स्नातकोत्तर स्तर सहित विश्वविद्यालयों में पढ़ना जारी रख सकती हैं। हालांकि महिला शिक्षा लेकिन कक्षाएं लिंग-पृथक होंगी और इस्लामी पोशाक अनिवार्य होगा।

Advertisement

दुनिया यह करीब से देख रही है कि 1990 के दशक के अंत में तालिबान अपनी पहली बार सत्ता में आने से किस हद तक अलग तरीके से कार्य कर सकता है। उस युग के दौरान, लड़कियों और महिलाओं को शिक्षा से वंचित कर दिया गया था, और सार्वजनिक जीवन से बाहर रखा गया था। तालिबान ने कहा है कि वे बदल गए हैं, जिसमें महिलाओं के प्रति उनका दृष्टिकोण भी शामिल है। हालांकि, उन्होंने हाल के दिनों में समान अधिकारों की मांग करने वाली महिला प्रदर्शनकारियों के खिलाफ हिंसा का इस्तेमाल किया है।

Advertisement

हक्कानी ने कहा कि तालिबान घड़ी को 20 साल पीछे नहीं करना चाहता। उन्होंने कहा, ‘आज जो मौजूद है उस पर हम निर्माण शुरू करेंगे।’ हालांकि, विश्वविद्यालय की छात्राओं को अनिवार्य ड्रेस कोड सहित तालिबान के तहत प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा। हक्कानी ने कहा कि हिजाब अनिवार्य होगा लेकिन यह निर्दिष्ट नहीं किया कि क्या इसका मतलब अनिवार्य हेडस्कार्फ़ या अनिवार्य चेहरा ढंकना है।

Advertisement

उन्होंने कहा कि लैंगिक अलगाव को भी लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘हम लड़के और लड़कियों को एक साथ पढ़ने नहीं देंगे।’ ‘हम सह-शिक्षा की अनुमति नहीं देंगे।’ हक्कानी ने कहा कि विश्वविद्यालयों में पढ़ाए जा रहे विषयों की भी समीक्षा की जाएगी, लेकिन उन्होंने विस्तार से नहीं बताया। तालिबान, जो इस्लाम की कठोर व्याख्या की सदस्यता लेते हैं, ने सत्ता में अपने पिछले समय के दौरान संगीत और कला पर प्रतिबंध लगा दिया है।

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!