काली विवाद में स्मृति ईरानी की इंट्री, महुआ मोइत्रा ही नहीं ममता बनर्जी को भी लताड़ा

कोलकाताः TMC सांसद महुआ मोइत्रा की ‘माँ काली’ पर हालिया टिप्पणी और फिर रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के बाद से चढ़ा बंगाल का सियासी पारा कम होने का नाम नहीं ले रहा। महुआ को भाजपा के आईटी सेल प्रमुख और बंगाल पर्यवेक्षक अमित मालवीय ने निशाना बनाया, जिसमें मोदी के भाषण के हिस्से को उजागर किया गया था। कृष्णानगर के तृणमूल सांसद ने भी पलटवार किया। मलावी-महुआ विवाद पर तृणमूल के एक अन्य सांसद सौगत रॉय ने भी अपनी राय रखी है। इस बार इस बहस में स्मृति ईरानी शामिल हो गईं।

यह पहली बार है जब किसी केंद्रीय मंत्री ने ‘माँ काली’ बहस पर सीधे बात की है। बंगाल के तीन दिवसीय दौरे पर आई स्मृति ईरानी ने हावड़ा में कहा, ”तृणमूल के एक सांसद के लिए मां काली का अपमान करना नामुमकिन नहीं है। अतीत में भी TMC के शीर्ष नेतृत्व ने देवी-देवताओं का कई तरह से अपमान किया है।”

BJP की राष्ट्रीय नेता और केंद्रीय महिला एवं बाल कल्याण मंत्री ने रविवार को हावड़ा के डुमुरजाला में पार्टी की संगठनात्मक बैठक की। सूत्रों के मुताबिक बैठक में केंद्र सरकार द्वारा पिछले आठ साल में बंगाल के लिए किए गए विकास कार्यों पर फोकस किया गया। सांगठनिक बैठक के बाद स्मृति रामराजताला स्थित राम मंदिर गईं।

पूजा से निकलने के बाद उन्होंने मीडिया से कहा, “मैंने राज्य के लोगों के लिए भगवान राम से प्रार्थना की है।” “मैं खुद को भाग्यशाली मानता हूं कि ऐसे राम मंदिर के दर्शन करने के लिए हावड़ा आई हूं।” इसके बाद उन्होंने ‘मा काली’ बहस पर अपना मुंह खोला और कहा, ”जो लोग इस तरह हिंदू धर्म का अपमान कर रहे हैं, तृणमूल चाहती तो उन्हें सजा दे सकती थी। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। मुख्यमंत्री (ममता बनर्जी) को ऐसा करना चाहिए था। इस तरह की टिप्पणी करने वाले किसी भी व्यक्ति को खारिज कर दिया।”

पिछले एक सप्ताह से प्रदेश भाजपा नेतृत्व इस बहस में महुआ पर निशाना साध रहा है। महुआ भी जवाब दे रही है। उस माहौल में, मोदी ने रविवार को कोलकाता के नजरूल मंच में रामकृष्ण मठ और मिशन के पूर्व प्राचार्य स्वामी आत्मस्थानंद की जन्मशती के अवसर पर एक वीडियो कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए बंगाल में कालीपूजा की महानता के बारे में बात की। उस संदर्भ में रामकृष्ण और विवेकानंद की भक्ति भी प्रधानमंत्री के भाषण में सामने आई।

हालांकि, प्रधानमंत्री ने ‘काली’ के पोस्टर पर कोई टिप्पणी नहीं की। लेकिन अपने भाषण को हाईलाइट करते हुए मालवीय बहस में कुद पड़े। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “जहां मोदी बंगाल और पूरे देश के लिए काली भक्ति को याद कर रहे हैं, वहीं एक बंगाली सांसद काली का अपमान कर रही है।” इसके बाद महुआ ने ट्वीट किया, ‘मैं बंगाल के बीजेपी के ट्रोल-इन-चार्ज को सलाह दूंगा कि वे अपने आकाओं से कहें कि वे उन चीजों पर टिप्पणी करना बंद करें जिनके बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। दीदी ओ दीदी ने उन्हें बूट दिलवाया। अब माँ ओ माँ इनके सीने पर पैर रखेगी।”

रविवार को मालवीय और महुआ के ट्वीट-युद्ध के संदर्भ में तृणमूल के वरिष्ठ सांसद सौगत ने कहा, ‘बंगालियों को यह सिखाने की जरूरत नहीं है कि बंगाल में काली की पूजा कैसे की जाती है। तृणमूल कोई धार्मिक बहस नहीं चाहती थी, इसलिए उसने इसका समर्थन नहीं किया। अपनी पार्टी के सांसद। हम अमित मालवीय से मां काली के बारे में सलाह भी नहीं सुनेंगे।

महुआ की गिरफ्तारी को लेकर राज्य भर में भगवा खेमा ‘माँ काली’ विवाद का इस्तेमाल कर रहा है। महुआ के खिलाफ भाजपा पहले ही राज्य के विभिन्न थानों में कई शिकायतें दर्ज करा चुकी है। महुआ ने भी बीजेपी को चुनौती दी

तृणमूल सांसद ने लिखा, “जॉय मां काली! बंगालियों द्वारा पूजी जाने वाली देवी निडर और शांत हैं।” बाद में उन्होंने लिखा, ‘मैं काली की उपासक हूं। मैं नहीं डरती। और जो सच है उसे समर्थन देने के लिए किसी अन्य बल की आवश्यकता नहीं है।” हालांकि, यह देखना बाकी है कि वह केंद्रीय मंत्री स्मृति की टिप्पणी का जवाब देती हैं या नहीं!

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system