28.1 C
New Delhi
Friday, September 24, 2021

बिहार की कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर, गंगा के रौद्र रूप से डरने लगी राजधानी

पटनाः बिहार में गंगा सहित कई प्रमुख नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। बढ़ते जलस्तर के कारण नदियों का पानी रिहायशी इलाकों में फैलने लगा है और बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है। एहतियातन गंगा किनारे स्थित जिलों को अलर्ट कर दिया गया है। गंगा के अलावा राज्य की प्रमुख नदियों में बागमती, बूंढ़ी गंडक, कमला बलान, पुनपुन जहां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं, वहीं कोसी और सोन भी उफान पर हैं।

Advertisement

जानकारी के मुताबिक बक्सर, पटना के दीघाघाट, गांधी घाट हाथीदह तथा मुंगेर भागलुपर के कहलगांव में गंगा नदी खतरे के निशान से उपर बह रही हैं, जबकि पटना के श्रीपालपुर में पुनपुन नदी खतरे के निशान को पार कर गई है। मुजफ्फरपुर के बेनीबाद में बागमती नदी , खगड़िया में बूढ़ी गंडक लाल निशान से ऊपर बह रही है। इसके अलावा कमला बलान मधुबनी के झंझारपुर रेल पुल के पास व जयनगर में खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।

Advertisement

सोन और कोसी नदी के जलस्तर में वृद्धि

इधर, सोन नदी में भी जलस्तर बढ़ गया है। सोन नदी पर बने इंद्रपुरी बैराज के पास गुरुवार की सुबह छह बजे सोन का जलस्तर 76,606 क्यूसेक था जो आठ बजे सुबह बढ़कर 79,415 क्यूसेक पहुंच गया। कोसी नदी के जलस्तर में भी वृद्धि देखी जा रही है। वीरपुर बैराज के पास कोसी नदी का जलस्तर सुबह छह बजे 1,40,870 क्यूसेक था, जो आठ बजे बढ़कर 1,44,745 क्यूसेक हो गया है।

Advertisement

गंगा में उफान से डरे पटना के लोग

पटना में गंगा का उफान लगातार बढ़ रहा है, जिससे पटना के लोग डरे हुए हैं। गंगा के जलस्तर में वृद्धि के बाद पटना शहर में भी पानी घुसने की आशंका जताई जा रही है। हालांकि जिला प्रशासन एहतियाती उपाय करने में जुटी है।  जिले में सोन गंगा के दियारा में 14 क्षेत्र बाढ़ प्रभावित घोषित कर दिए गए हैं। जिलाधिकारी डा. चंद्रशेखर सिंह ने गंगा सुरक्षा तटबंध को निरीक्षण के दौरान जल संसाधन विभाग के अभियंता को अलर्ट रहने का निर्देश दिया। जिले में बचाव-राहत कार्य के लिए 18 जगहों पर राहत शिविर बनाए गए हैं। इसके अलावा विभिन्न स्थानों पर सामुदायिक रसोई प्रारंभ की गई है।

मुख्यमंत्री ने किया जिलाधिकारियों को अलर्ट

राज्य के अन्य बाढ़ प्रभावित जिलों में भी बाढ़ का पानी नए क्षेत्रों में घुस रहा है। बाढ़ के खतरे को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को बक्सर, भोजपुर, सारण, वैशाली, पटना, समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया, लखीसराय, मुंगेर, भागलपुर एवं कटिहार जिले के जिलाधिकारियों के साथ बाढ़ से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की।उन्होंने जिलाधिकारियों को प्रभावित लोगों को तत्काल मदद पहुंचाने तथा तटबंधों एवं नदियों के जलस्तर की निगरानी बढ़ाने का निर्देश दिए।

Read also: राम भरोसे मंत्रीजी के विभाग, बिहार सचिवालय सहायक के आधे से अधिक पद रिक्त

मुख्यमंत्री ने जलनिकासी के बाद बाढ़ से क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत कराने के लिए भी निर्देश दिए। उन्होंने कृषि, पशु एवं मत्स्य संसाधन विभागों को भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में जिलाधिकारियों से निरंतर संपर्क में रहने को कहा है। उन्होंने सामुदायिक रसोई की भी पूरी तैयारी रखने का निर्देश दिए हैं। उन्होंने ने पशु राहत शिविरों में चारे की व्यवस्था रखने को भी अधिकारियों से कहा है। शिविर में जन्म लेने वाली बच्ची को 15 हजार रुपये तथा बच्चे को 10 हजार रुपये की राशि लाभार्थियों को तत्काल मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं।

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!