The richest person of Asia: गौतम अडानी ने मुकेश अंबानी और मार्क जुकरबर्ग को छोड़ा पीछे

मुंबईः अडानी समूह के चेयरमैन गौतम अडानी (Gautam Adani) एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं (The richest person of Asia)। अडानी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के साथ ही मेटा के मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) को भी पीछे छोड़ दिया है। इसी के साथ गौतम अडानी दुनिया के 10वें सबसे अमीर व्यक्ति हो गए हैं।  वहीं, एलन मस्क (Elon Musk) अब भी दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति के खिताब पर कायम हैं, उनका नेटवर्थ 232।3 बिलियन डॉलर है।

फोर्ब्स की रियल टाइम बिलियनेयर इंडेक्स (Forbes Real Time Billionaire Index) के अनुसार, रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख भारतीय अरबपति मुकेश अंबानी का नेटवर्थ 89.4 बिलियन डॉलर है। अंबानी पहले सबसे अमीर एशियाई अरबपति थे। गौतम अडानी की कुल संपत्ति आज 6.78 लाख करोड़ है (The richest person of Asia)।

बहुत कम लोगो को यह पता होगा कि Adani का परिवार पहले आर्थिक रूप से बहुत कमजोर हुआ करता था। अडानी ने एक सपना देखा था, वह सपना था – अपने परिवार को गरीबी से निकालने का। यह नौकरी से संभव नही हो सकता था, क्योंकि एक बधी-बधाई सैलरी में परिवार के 8 लोगो का खर्च निकालना मुश्किल हो रहा था। अडानी ने अपने परिवारको गरीबी से ऊपर उठाने के अपनी नौकरी तक छोड़ दी थी। बिजनेस में किस्मत ने भी साथ दिया अगले ही साल Adani के आउटलेट का टर्नओवर लाखो में में हो गया। Adani अपने भाई मनसुखलाल के कहने पर अहमदाबाद की एक प्लास्टिक फैक्ट्री में काम करने लगे। Adani ने 1988 में एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट- कंपनी Adani इंटरप्राइजेज की

अडानी ग्रुप के चैयरमैन गौतम अडानी ने मात्र 16 साल की उम्र में 5 लाख से अपने कारोबार की शुरुआत की थी। उन्होंने 1978 में मुंबई में अपनी पहली कंपनी शुरू की, लेकिन 1981 में वो वापस गुजरात लौट गए। उन्होंने अपने भाई के साथ मिलकर प्लास्टिक की फैक्ट्री लगाई।

अडानी पोर्ट्स देश की बड़ी बंदरगाह मैनेजमेंट कंपनी है। इसके अलावा देश के 7 हवाईअड्डों के मैनेंजमेंट अडानी ग्रुप के पास है। इसके अलावा तेल फूड प्रोडक्ट्स बनाने वाली Fortune कंपनी अडानी समूह का हिस्सा है। इसके अलावा ग्रीनएनर्जी गैस डिस्ट्रिब्यीशन, इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र में अडानी समूह बड़ा नाम है।

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system