कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव: मधुसूद मिस्त्री से मिले थरूर, तो गहलोत पहुंचे सेनिया के पास

नई दिल्लीः 17 अक्टूबर को होने वाले कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव के मद्देनज़र अपनी दावेदारी को लेकर पार्टी नेताओं ने कवायद तेज कर दी है। नए कांग्रेस प्रमुख का चुनाव लड़ने की इच्छा व्यक्त करने वाले पार्टी नेता शशि थरूर  ने जहां बुधवार को पार्टी के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री से मुलाकात की, वहीं अपने नामांकन को लेकर बढ़ती चर्चा के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की।

शशि थरूर से मुलाकात को लेकर मधुसूदन मिस्त्री ने बताया कि उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव के संबंध में शशि थरूर के सभी सवालों का जवाब दिया। उन्हों ने थरूर को चुनावी नियमों, एजेंटों की संख्या और उनकी भूमिकाओं के बारे में बताया और चर्चा की कि चुनाव के लिए फॉर्म कैसे भरें। बता दें 17 अक्टूबर को कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव होना है और मतों की गिनती 19 अक्टूबर को होगी। मिस्त्री ने कहा कि जो लोग अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ना चाहते हैं, उन्हें 10 प्रतिनिधियों के हस्ताक्षर की आवश्यकता होगी।

यह पूछे जाने पर कि क्या अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के दौरान अपना नामांकन दाखिल कर सकते हैं, मिस्त्री ने कहा कि पार्टी के संविधान में कहा गया है कि कोई भी इस शर्त पर अध्यक्ष का चुनाव लड़ सकता है कि वह कांग्रेस का प्रतिनिधि है या नहीं।

मिस्त्री ने यह भी कहा कि राहुल गांधी समेत भारत जोड़ो यात्रिया में शामिल पार्टी नेताओं के लिए अलग से कोई पोलिंग बूथ नहीं बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सीईए यात्रा पर गए राहुल गांधी और अन्य प्रतिनिधियों के लिए डाक मतपत्र की व्यवस्था कर सकता है।

मिस्त्री ने कहा, “राहुल गांधी और भारत जोड़ी यात्रा पर गए अन्य कार्यकर्ताओं के लिए एक अलग मतदान केंद्र नहीं बनाया जाएगा क्योंकि वे चल रही भारत जोड़ो यात्रा में हैं, लेकिन अगर वह हमें समय से पहले सूचित करते हैं, तो हम कांग्रेस के अध्यक्ष चुनाव के लिए पोस्टल बैलेट के माध्यम से उनका वोट ले सकते हैं” ।

बता दें, इससे पहले शशि थरूर ने सोमवार को पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी और समझा जाता है कि उन्होंने पार्टी में “आंतरिक लोकतंत्र को मजबूत बनाने” के लिए पार्टी अध्यक्ष चुनाव लड़ने के अपने इरादे से अवगत कराया। थरूर जी23 के सदस्य हैं, जिन्होंने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी में व्यापक सुधार की मांग की थी।

अपने नामांकन को लेकर बढ़ती चर्चा के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि वह पार्टी द्वारा उन्हें दी गई किसी भी जिम्मेदारी का निर्वहन करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी।

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system