32.1 C
New Delhi
Saturday, July 24, 2021

आपातकाल की बरसी पर पीएम मोदी का कांग्रेस पर निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आपातकाल की 46वीं बरसी पर इमरजेंसी के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करने वाले शख्सियतों को याद करने के बहाने कांग्रेस पर निशाना साधा है। पीएम मोदी ने कहा है कि इमरजेंसी के जरीए कांग्रेस ने हमारे लोकतांत्रिक लोकाचार का दमन किया।

आपातकाल की 46वीं बरसी पर ट्वीट की एक श्रृंखला में, प्रधानमंत्री ने कहा,“आपातकाल के उन बुरे दिनों को कभी नहीं भुलाया जा सकता। 1975 से 1977 की समयावधि संस्थानों के सुनियोजिततरीके से विनाश की साक्षी रही है।”

Advertisement

पीएम ने आगे लिखा,’आइए हम भारत की लोकतांत्रिक भावना को मजबूत करने के लिए हर संभव प्रयास करेंऔर हमारे संविधान में निहित मूल्यों पर खरा उतरनें का संकल्प लें। इस तरह से कांग्रेस ने हमारे लोकतांत्रिक लोकाचार का दमन किया। हम उन सभी महानुभावों को याद करते हैं जिन्होंने आपातकाल का विरोध करते हुए भारतीय लोकतंत्र की रक्षा की।

आपातकाल की बरसी पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उन सभी महानुभावों को भी याद किया जिन्होंने आपातकाल के ख़िलाफ अपनी आवाज़ बुलंद की और भारतीय लोकतंत्र की रक्षा की।

दमन, उत्पीड़न और गला घोंटने के पर्यायवाची बन चुके प्रधानमंत्री- सुरजेवाला

इधर पीएम के ट्वीट के बाद कांग्रेस ने भी पलटवार किया है। कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने आपातकाल पर प्रधानमंत्री की टिप्पणी का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ”दमन, उत्पीड़न और गला घोंटने के पर्यायवाची बन चुके प्रधानमंत्री ऐसी बात करते हैं। एक ऐसे प्रधानमंत्री जिन्होंने संसद को कमतर किया, संविधान की धज्जियां उड़ा दीं, संस्थाओं को ध्वस्त कर दिया, लोकतंत्र को कुचल दिया। ऐसे प्रधानमंत्री को उपदेश नहीं देना चाहिए, जिनके तहत सात वर्षों से भारत ‘मोदी-जेंसी में है।

इमरेजेंसी के लिए कांग्रेस ने मांगी थी देश से माफी, जबकि RSS ने विदेशी शक्तियों से- पवन खेड़ा

कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने ट्वीट किया, ”आधिकारिक रूप से लगाए और हटाए गए आपातकाल की स्पष्ट सीमाएं थीं, लेकिन आज हम जो देख रहे हैं वो उससे उलट है। कांग्रेस ने इसके लिए अपने देश के लोगों से माफी भी मांगी, जबकि आरएसएस ने विदेशी शक्तियों से माफी मांगी थी। भारत के लोगों ने कांग्रेस को माफ कर दिया और आपातकाल के दो-ढाई साल के भीतर उसे फिर सत्ता में लाए।  उन्होंने यह दावा भी किया कि आरएसएस ने ‘1975 और 2014 के आपातकाल दोनों का समर्थन किया था।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित केंद्र के सत्ताधारी दल के कई नेताओं ने आपातकाल की 46वीं बरसी पर शुक्रवार को कांग्रेस की खूब निंदा की और आपातकाल के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले ”सत्याग्रहियों को याद किया।

देश में 25 जून 1975 को आपातकाल की घोषणा की गई थी जो से 21 मार्च 1977 तक यानी कुल 21 महीने जारी रहा। उस समय इंदिरा गांधी देश की प्रधानमंत्री थीं।

अभय पाण्डेय
आप एक युवा पत्रकार हैं। देश के कई प्रतिष्ठित समाचार चैनलों, अखबारों और पत्रिकाओं को बतौर संवाददाता अपनी सेवाएं दे चुके अभय ने वर्ष 2004 में PTN News के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। इनकी कई ख़बरों ने राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां बटोरी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!