22 C
New Delhi
Saturday, February 27, 2021

भारत में विकसित न्यूमोनिया के पहले टीके को DCGI से मिली मंजूरी

नई दिल्ली: केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को बताया कि देश में विकसित न्यूमोनिया के पहले टीके को भारत के औषधि महानियंत्रक (DCGI) से मंजूरी मिल गयी। टीके के लिए विशेष विशेषज्ञ समिति (SEC) की मदद से DCGI ने पुणे की कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा सौंपे गए।

क्लिनिकल ट्रायल के पहले, दूसरे और तीसरे चरण के आंकड़ों की समीक्षा की। ‘न्यूमोकोकल पॉलीस्काराइड कॉजुगेट टीके’ को बाजार में उतारने की अनुमति दे दी। यह टीका इंजेक्शन की मदद से लगेगा। इस टीके का उपयोग न्यूमोनिया से बचाव के लिए बड़े पैमाने पर किया जाएगा।

Advertisement

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने डीसीजीआई से टीके के पहले, दूसरे और तीसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल भारत में करने की मंजूरी ली। इसका ट्रायल गाम्बिया में भी हुआ है। इसके बाद कंपनी ने टीका बनाकर उसे बेचने की अनुमति मांगी थी।

Advertisement

विशेष विशेषज्ञ समिति ने टीके के उत्पादन और बिक्री की अनुमति देने की सलाह दी। इसके आधार पर 14 जुलाई को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को इसकी अनुमति दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!