मंहगाई रोकने में BJP विफल, झारखंड के वित्त मंत्री बोले- पेट्रोलियम की कीमत बढ़ने से हर चीज हुई महंगी

रांचीः झारखण्ड सरकार के वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उराँव ने देश में बढ़ती महंगाई पर केंद्र की BJP सरकार को आड़े हाथो लिया है। डॉ उरांव का मानना है कि केंद्र सरकार बेतहाशा बढ़ती महंगाई पर उदासीन है और उसे कंट्रोल करने के लिए रोडमैप नहीं बना पा रही। रांची स्थित अपने आवास पर पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में डॉ रामेश्वर उराँव ने कहा, “पेट्रोलियम पदार्थों एवं खाद्य पदार्थों की लगातार बढ़ रही कीमतों से आमजन जीवन तबाह हो रहे हैं,कांग्रेस सरकार जानती थी कि अगर पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत बढ़ेगी तो आवश्यक वस्तु विशेषकर खाने पीने की चीजों के दाम बढ़ेंगे और अगर खाने पीने,भोजन की कीमत बढ़ेंगे तो स्थितियां अनियंत्रित होंगी और गरीबों का जीना दुस्वार होगा,इसलिए कांग्रेस की सरकार सब्सिडी देकर पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों को नियंत्रित रखती थी लेकिन भाजपा सरकार महंगाई नियंत्रित करने में पूरी तरह से विफल हो गई है”।

उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि दिल्ली में एक बार प्याज की कीमत अचानक से बढ़ गई तो मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने महाराष्ट्र से प्याज मंगवाकर सप्लाई की कमी को दूर किया और महंगाई नियंत्रित किया,लेकिन आज हर रोज कीमत बढ़ रहे हैं और केन्द्र सरकार आनन्द ले रही है। डॉ उराँव ने कहा पिछले आठ सालों में खुदरा महंगाई दर वर्तमान में सबसे अधिक 7.79 प्रतिशत है जो काफी चिंता का विषय है।खाध्य पदार्थों पर महंगाई दर सबसे अधिक 8.38 प्रतिशत है वहीं दूसरी तरफ भारत सरकार के जो आंकड़े आये हैं उसमें कहा गया है कि ग्रामीण भारत में महंगाई दर 8.38 है जो यह दर्शाता है गांवों में महंगाई ज्यादा प्रभावशाली है।

डॉ रामेश्वर उराँव ने कहा पेट्रोलियम पदार्थों एवं खाद्य पदार्थों की लगातार बढ़ रही कीमतों से आमजन जीवन तबाह हो रहे हैं,कांग्रेस सरकार जानती थी कि अगर पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत बढ़ेगी तो आवश्यक वस्तु विशेषकर खाने पीने की चीजों के दाम बढ़ेंगे और अगर खाने पीने,भोजन की कीमत बढ़ेंगे तो स्थितियां अनियंत्रित होंगी और गरीबों का जीना दुस्वार होगा,इसलिए कांग्रेस की सरकार सब्सिडी देकर पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों को नियंत्रित रखती थी लेकिन भाजपा सरकार महंगाई नियंत्रित करने में पूरी तरह से विफल हो गई है।उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा दिल्ली में एक बार प्याज की कीमत अचानक से बढ़ गई तो मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने महाराष्ट्र से प्याज मंगवाकर सप्लाई की कमी को दूर किया और महंगाई नियंत्रित किया,लेकिन आज हर रोज कीमत बढ़ रहे हैं और केन्द्र सरकार आनन्द ले रही है।

वरीष्ठ कांग्रेस नेता आलोक कुमार दूबे ने कहा RBI ने चालीस प्वाइंट बेसिक रेपो रेट बढ़ा दिया है जिसके कारण बैंकों का EMI महंगा हो गया है,महंगाई का आलम ये है कि निर्माण उधोग के मेटेरियल की कीमत एक वर्ष में लगभग 40 प्रतिशत बढ़ गये हैं जो रोजगार सृजन का स सशक्त माध्यम है,अकेले राँची में ही 500 में लगभग 400 प्रोजक्ट पर काम बन्द हो गये हैं,आमलोगों की परेशानियों से केन्द्र सरकार को कोई लेना देना नहीं है।

कांग्रेस नेता लाल किशोर नाथ शाहदेव ने कहा बच्चों का दूध महंगा हो गया है,टूथपेस्ट महंगा,कपड़ा महंगा हो गया तो दूसरी तरफ आंटा,चावल,दाल,आलू,नींबू,प्याज,हर आवश्यक वस्तुओं की कीमत बढ़ती जा रही है और साथ ही साथ सरकार के खजाने भी बढ़ते जा रहे हैं।कोरोना महामारी के दौरान पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में 20 रुपये प्रति डॉलर होने के बावजूद देश की जनता को कोई फायदा नहीं हुआ उल्टे आठ वर्षों में केन्द्र सरकार ने 22 लाख करोड़ रुपये कमाने का काम किया है और भाजपा यूक्रेन युद्ध की दलाली कर रही है।

वरीष्ठ कांग्रेस नेता डॉ राजेश गुप्ता छोटू ने कहा कि 2014 में मिलने वाला घरेलू कुकिंग गैस आज 14 मई को राजधानी राँची में 1000 रुपये में मिल रहा है।कांग्रेस की सरकार गैस की कीमतों को नियंत्रित रखने के लिए सब्सिडी दिया करती थी लेकिन आज भाजपा सरकार शून्य सब्सिडी दे रही है और केन्द्र की राष्ट्रीय संपत्तियों को अपने चहेतों के हाथों बेचती जा रही है।डा.गुप्ता ने कहा भाजपा मालामाल और जनता बेहाल है,रसोई का चूल्हा महंगाई की आग में जल रहा है।

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system