28.1 C
New Delhi
Wednesday, October 20, 2021

Bihar Panchayat Chunav: किचन में नहीं अब चुनावी मैदान में सास से निपटेगी बहूरानी

पटनाः घर के अंदर सास-बहू के झगड़े आपने खूब देखे और सूने होंगे, लेकिन सियासत के मैदान में सास-बहू का यह झगड़ा बेहद ही दिलचस्प है। मामला नौबतपुर प्रखंड के गोनवां पंचायत का है। यहां सास और बहू दोनों एक दूसरे के खिलाफ चुनाव मैदान में हैं और दोनों मुखिया पद की दावेदार हैं।

Advertisement

जानकारी के मुताबिक गोनवां पंचायत पर लगातार डेढ़ दशक से भी ज्यादा तक राजेन्द्र प्रसाद की फैमिली का कब्जा रहा है। पहले राजेन्द्र प्रसाद खुद 2006 से 2016 लगातार वहां के मुखिया रहे और 2016 के बाद उनकी पत्नी चंद्रावती देवी वहां की मुखिया हैं। लेकिन इस बार चुनाव में तस्वीर कुछ अलग हो सकती है, क्योंकि लड़ाई बाहर वाले से नहीं घर के अंदर वाले से है। टक्कर सास-बहू के बीच है।

Advertisement

दरअसल, वर्तमान मुखिया चंद्रावती देवी ने जिस मुखिया पद के लिए 20 सितंबर को अपना नॉमिनेशन दाखिल किया उसी पद के लिए उसी दिन उनकी एकलौती बहु खुशबू कुमारी ने भी उनके विरोध में नॉमिनेशन फाईल किया है। सास-बहू के बीच ठनी यह सियासी लड़ाई बेहद शुर्खियों में है। आलम यह है कि जिन वोटरों के बदौलत राजेन्द्र प्रसाद की फैमिली ने लगातार गोंनवां पंचायत पर कब्जा बनाए रखा है वह कंफ्यूज है कि वह अपना मत किसे दे।

Advertisement

इधर कुछ लोगों की माने तो इसके पिछे कुछ ना कुछ सियासी चाल है, क्योंकि राजेन्द्र प्रसाद का एकलौता बेटा जितेंद्र कुमार रेलवे में नौकरी करता है। जितेंद्र की पत्नी खुशबू घरेलू महिला है और तीन बेटियों की माँ है। घर का माहौल भी शांत है। परिवार में तनाव की कोई बात अब तक सामने नहीं आई, लेकिन अचानक सियासी मैदान में सास और बहू के आमने सामने आ जाने का मतलब हजम होने वाला नहीं। लोग तो यहां तक कह रहे हैं कि दोनों में से कोई एक डमी कैंडिडेट होगा, जिससे पर्दा चुनाव के वक्त ही हटेगा।

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!