30.1 C
New Delhi
Friday, July 30, 2021

कोरोना काल में मोबाइल यूजर्स रहें सावधान, यह वायरस पहुंचा सकता है बड़ा नुकसान

नई दिल्‍ली: देश भर में जारी कोरोना संकट के बीच मोबाइल यूजर्स के लिए एक अलर्ट सामने आया है। लॉकडाउन के कारण घरो में कैद लोग जिस तरह से अपना ज्यादा से ज्यादा वक्त मोबाइल के साथ गुजार रहे हैं, ऐसे में हैकरों ने उन पर जाल बिछाना शुरू कर दिया है। जानकारी सामने आने के बाद देश का खुफिया विभाग अलर्ट मोड पर आ गया है और CBI ने  सभी राज्यों को अलर्ट जारी कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक CBI ने अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस अपडेट से जुड़ा एक वायरस मोबाइल यूजर्स के बीच तेजी से पहुंच बना रहा है। इसे क्‍लिक करने के साथ ही यूजर्स को भारी जोखिम उठाना पड़ सकता है। उन्हें अपनी जमा पूंजी तक गंवानी पड़ सकती हैं। यह जानकारी CBI को खुफिया एजेंसी इंटरपोल (Interpol) की तरफ से दी गई है। इंटरपोल की तरफ से CBI को दी गई जानकारी में कहा गया है कि Cerberus कोरोना वायरस महामारी का गलत फायदा उठाते हुए यूजर्स को फर्जी SMS भेजता है।

Advertisement

इंटरपोल द्वारा CBI को बताया गया है कि लॉकडाउन की वजह से लोग घरों में कैद हैं और कोरोना वायरस से जुड़ी पल-पल की ख़बर को जानना चाहते हैं, जिसका फायद हैकर्स उठा रहे हैं। उनकी तरफ से मोबाइल यूजर्स को पहले टेक्स्ट मेसेज के जरिए एक लिंक भेजा जा रहा है। लिंक में कोरोना वायरस के रिसर्च से जुड़ी जानकारी होने का दावा किया जा रहा है। कोरोना वायरस के रिसर्च से जुड़ी जानकारी हासिल करने को उत्सुक यूजर जैसे ही उस लिंक पर क्लिक कर रहे हैं खतरनाक वायरस Cerberus फोन में इंस्टॉल हो जाता है।

Advertisement

Read also: अगर आप मोटे हैं तो कोरोना वायरस से रहें सावधान, बढ़ सकती हैं मुश्किलें

सबेस खास बात तो यह है कि हैकरों की चाल से अनजान  लोगों को पता भी नहीं चलता और यह वायरस उनके फोन में इंस्टॉल हो जाता है। जानकारों की मानें, तो यह एक बार अगर फोन में इंस्‍टॉल हो गया तो काफी ज्यादा डेटा की चोरी कर सकता है। इस वायरस की बजह से यूजर्स के पर्सनल डेटा के साथ ही दूसरे सेंसिटिव डेटा के लिए बड़ा खतरा उत्पन्न हो गया है।

CBI के मुताबिक ‘Cerberus’ यूजर्स के बैंकिंग डीटेल्स को भी बड़ी ही आसानी से फोन से निकाल सकते हैं। CBI ने चेतावनी देते हुए कहा, ‘यह ट्रोजन यूजर के फाइनैंशल डेटा जैसे Credit card / Debit card नंबर और दूसरे डीटेल्स को चुराने पर फोकस करता है। इसके अलावा यह बड़ी चालाकी से यूजर्स को अपने जाल में फंसा कर पर्सनल इन्फर्मेशन और टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन डीटेल्स को ऐक्सेस कर लेता है।’ CBI ने साफ किया है कि यूजर्स ऐसे किसी भी मेसेज पर क्‍लिक ना करें, जिसमें कोरोना वायरस से जुड़ी जानकारी देने की बात कही गई है।

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!