21.4 C
New Delhi
Tuesday, March 2, 2021

कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के तौर-तरीकों पर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने की बैठक

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेन्द्र  मोदी ने कृषि क्षेत्र के मुद्दों और आवश्यनक सुधारों के बारे में विचार-विमर्श करने के लिए शनिवार को एक बैठक की। बैठक में कृषि विपणन, विपणन योग्यय अधिशेष के प्रबंधन, संस्थाकगत ऋण तक किसानों की पहुंच में सुधार लाने और कानून के उचित समर्थन सहित कृषि क्षेत्र को विभिन्नत प्रतिबंधों से मुक्तु किए जाने पर विशेष बल दिय गया।

कृषि विकास में तेजी लाने के संदर्भ में मौजूदा विपणन व्य्वस्थाक में महत्वनपूर्ण हस्तक्षेप करने तथा उचित सुधार लाने पर विशेष रूप से ध्यायन केंद्रित किया गया। बैठक के दौरान कृषि संबंधी बुनियादी ढांचे को मजबूती प्रदान करने के लिए  कई बिन्दुओं पर गहना से चर्चा हुई। इनमें पीएम-किसान लाभार्थियों के लिए विशेष किसान क्रेडिट कार्ड सेचुरेशन ड्राइव तथा किसानों को उचित आमदनी सुनिश्चित कराने के लिए कृषि उपज के अंतर-राज्यं और अंत:राज्यि व्यापार को सुगम बनाने जैसे कुछ महत्वतपूर्ण मामलों पर चर्चा की गई। बैठक में ई-कॉमर्स को सक्षम बनाने के लिए ई-नाम को प्लेगटफॉर्म्सु के प्लेाटफॉर्म के रूप में विकसित करने जैसे महत्वकपूर्ण विषय पर भी चर्चा हुई।

Advertisement

इस बैठक में देश में एकसमान वैधानिक ढांचे की संभावनाओं पर भी चर्चा की गई ताकि खेती के लिए नए तौर-तरीके सुगम बनाए जा सकें, जो कृषि अर्थव्यवस्था में पूंजी और प्रौद्योगिकी का समावेशन कर सकें। फसलों में जैव-प्रौद्योगिकीय विकास के पक्ष और विपक्ष अथवा उत्पादकता में वृद्धि और इनपुट लागत में कमी पर भी विचार विमर्श किया गया। इस दौरान आदर्श भूमि पट्टेदारी अधिनियम की चुनौतियों तथा छोटे और सीमांत किसानों के हितों की रक्षा कैसे की जाए, इस के बारे में विस्तार से चर्चा की गई।

Advertisement

बैठक में इस बात पर भी विचार विमर्श किया गया कि आवश्यक वस्तु अधिनियम को वर्तमान समय के अनुरूप बनाना कितना उचित है, ताकि उत्पादन पश्चायत की कृषि अवसंरचना में बड़े पैमाने पर निजी निवेश को प्रोत्साहन मिल सके तथा जिंस डेरिवेटिव बाजारों पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ सके।

कृषि जिंस निर्यात को बढ़ावा देने के लिए ब्रांड इंडिया के विकास, विशिष्ट कमोडिटी से संबंधित बोर्डों/ परिषदों के गठन और कृषि-समूहों/अनुबंध खेती को बढ़ावा देने जैसे कुछ हस्तक्षेपों पर चर्चा की गई।

कृषि क्षेत्र में प्रौद्योगिकी का उपयोग सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें हमारे किसानों के लाभ के लिए संपूर्ण मूल्य श्रृंखला को खोलने की क्षमता मौजूद है। प्रधानमंत्री ने प्रौद्योगिकी का प्रसार अंतिम व्यंक्ति तक करने  और किसानों को वैश्विक मूल्य श्रृंखला में अधिक प्रतिस्पर्धी बनाने पर जोर दिया।

कृषि अर्थव्यलवस्थार में जीवंतता लाने, कृषि व्याकपार में पारदर्शिता लाने और किसानों को अधिकतम लाभ पहुंचाने के लिए बैठक में एफपीओ की भूमिका को और मजबूत बनाने का फैसला किया गया। कुल मिलाकर किसानों को बेहतर दाम दिलाने और चयन की आजादी देने के लिए बाजारों को नियंत्रित करने वाले मौजूदा कानूनों पर पुनर्विचार करने पर बल दिया गया।

Avatar
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!