29 C
New Delhi
Thursday, May 6, 2021

चीन मसले पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दोहराई पंडित नेहरू जैसी गलती!

भारत और चीन के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) में सोमवार की रात को भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच गलवान घाटी के पास हिंसक झड़प हुई। इस घटना में भारत के 20 जवान शहीद हो गए। इसके बाद दोनों देशों के रिश्तों में एक बार फिर कड़वाहट बढ़ गई है।

एक तरह से देखा जाये तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1962 में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा की गयी गलती को दोहराने का काम किया है। नेहरू ने पंचशील में चीन को शामिल किया था और 1962 में उसी चीन ने भारत पर हमला कर दिया। भारत के ना कहने के बाद चीन यूएन का स्थाई सदस्य बन गया।

Advertisement

वैसे ही चीन की चाल से बेखबर मोदी चीन के तानाशाह शासक शी जिंगपिंग के साथ झूला झूलते रहे और बंद कमरे में बात करते रहे। फलसफा वही रहा जो 1962 में था। भारतीय नागरिकोंं को चीन की दगाबाजी ही हाथ लगी। यह गलती प्रधानमंत्री मोदी पाकिस्तान जाकर और वहां की जांच एजेंसी को भारत बुलाकर भी कर चुके हैं। भारत और चीन सीमा पर मई से तनाव जारी है।

Advertisement

इस वक्त भारत सरकार के प्रधानमंत्री से लेकर किसी नौकरशाह में हिम्मत नहीं हुई कि जनता को वास्तविक स्थिति से अवगत करा सके?

सैनिकों के मरने की खबर चीनी अखबार “ग्लोबल टाइम्स” से मिली। यह चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का बेहद आक्रामक अखबार है। इस अखबार के संपादक ट्वीट से भारतीय मीडिया को सैनिकों के मारे जाने की खबर मिली।

क्या भारत सरकार बता सकती है कि आजादी के बाद के 70 सालों में कितने राजनेताओं के बेटे सरहद पर शहीद हुए हैं? यदि नहीं तो नैतिक रूप से उन्हें सत्ता पर बने रहने का अधिकार नहीं है। कोई राजनेता देश को जवाब देगा कि सरहद पर शहीद होने के लिए मध्यमवर्गीय परिवार के बच्चे और सत्ता की मलाई खाने के लिए नेताओं के बेटे, आखिर क्यों? अब देश की जनता को नेताओं से 70 साल का हिसाब मांगना चाहिए।

दीपक सेन
दीपक सेन
मुख्य संपादक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!