20.1 C
New Delhi
Thursday, February 29, 2024
-Advertisement-

निजी एयरलाइन की तरह एयर इंडिया में किसी कर्मचारी की नौकरी नहीं जायेगी

नई दिल्ली: एयर इंडिया ने गुरूवार को कहा कि बड़ी संख्या में कर्मचारियों को हटाने वाली निजी एयरलाइनों की तरह उनके किसी कर्मचारी की नौकरी नहीं जाएगी।

देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी इंडिगो ने सोमवार को घोषणा की थी कि कोविड-19 महामारी की वजह से उत्पन्न आर्थिक संकट के चलते 10 प्रतिशत कर्मचारियों को हटाएगी।

इसके अलावा, जब कंपनियां कोविड—19 का बहाना बनाकर कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा रहीं हैं। ऐसे मुश्किल वक्त में एयर इंडिया ने मिसाल पेश की है।

एयर इंडिया ने ट्वीट किया, ‘‘कर्मचारियों के वेतन पर होने वाले खर्च को तर्कसंगत बनाने के एयर इंडिया बोर्ड के हालिया निर्णय की गुरूवार शाम नागरिक उड्डयन मंत्रालय की एक बैठक में समीक्षा की गई। बैठक में दोहराया गया कि निजी एयरलाइनों की तरह एअर इंडिया के किसी कर्मचारी की नौकरी नहीं जाएगी।’’

राष्ट्रीय संवाहक ने 25 हजार से अधिक कुल मासिक वेतन पाने वाले कर्मचारियों के भत्तों में 50 प्रतिशत तक की कटौती की बुधवार को घोषणा की थी।

इसने ट्वीट किया, ‘‘किसी भी श्रेणी के कर्मचारी के मूल वेतन, महंगाई भत्ता और एचआरए में कोई कटौती नहीं की जाएगी। कोविड-19 की वजह से एयरलाइन की मुश्किल वित्तीय स्थिति के चलते भत्तों को तर्कसंगत करने का निर्णय करना पड़ा।’’
इसने कहा कि चालक दल के सदस्यों को उड़ान के घंटों के आधार पर भुगतान किया जाएगा।

एयरलाइन ने कहा, ‘‘घरेलू और अंतरराष्ट्रीय परिचालन के कोविड-19 से पहले जैसी स्थिति पर पहुंचने तथा एयर इंडिया की वित्तीय हालत में सुधार होने पर तर्कसंगत किए गए भत्तों की समीक्षा की जाएगी।’’

एयर इंडिया ने कर्मचारियों के वेतन को तर्कसंगत बनाने के प्रयास के तहत एक महत्वपूर्ण कदम में 14 जुलाई को एक आंतरिक आदेश जारी कर अपने विभाग प्रमुखों तथा क्षेत्रीय निदेशकों से कार्यक्षमता, स्वास्थ्य जैसे विभिन्न कारकों के आधार पर ऐसे कर्मचारियों की पहचान करने को कहा था जिन्हें बिना वेतन पांच साल तक की आवश्यक छुट्टी पर भेजा जा सके।

इसने कहा था कि कर्मचारी स्वैच्छिक रूप से भी बिना वेतन अवकाश पर जाने का विकल्प चुन सकते हैं।