20.7 C
New Delhi
Saturday, March 2, 2024
-Advertisement-

मीडिया प्रोडक्शन के लिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने जारी किया SOP

नई दिल्लीः केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मीडिया प्रोडक्शन के लिए निवारक उपायों पर मार्गदर्शक सिद्धांतों के साथ-साथ SOP जारी किया है। इसे स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के परामर्श से तैयार  किया गया है। मार्गदर्शक सिद्धांतों की मुख्य बातों में सामान्य सिद्धांत शामिल हैं, जो स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा दिए गए हैं। इनमें अन्य बातों के अलावा वे गैर-आवश्यक गतिविधियां शामिल हैं जिनकी अनुमति कोविड-19 से संबंधित कंटेनमेंट (सील) जोन में नहीं है।

इन सिद्धांतों के तहत ज्यादा जोखिम वाले कर्मचारियों को अतिरिक्त सावधानियां बरतनी होंगी। इसी तरह फेस कवर/मास्क पहनना होगा, बार-बार हाथ धोना पड़ेगा, हैंड सैनिटाइजर, इत्यादि की व्यावस्थार करनी होगी। इसके साथ ही विशेषकर मीडिया प्रोडक्शन के संबंध में श्वसन से जुड़ी तहजीब या नियम-कायदों को ध्यांन में रखना होगा।

मंत्रालय ने इस सेक्टंर में अधिसूचित अंतर्राष्ट्रीय प्रथाओं या तौर-तरीकों को ध्यान में रखते हुए सामान्य SOP तैयार की हैं, जिनमें सामाजिक या भौतिक दूरी बनाए रखना, शूट वाले स्थानों के लिए निर्दिष्टय प्रवेश एवं निकासी मार्गों की व्यवस्था करना, सैनिटाइजेशन, कर्मचारियों की सुरक्षा, न्यूनतम संपर्क सुनिश्चित करने के अलावें। क्वायरंटाइन / आइसोलेशन सहित गृह मंत्रालय द्वारा जारी यात्रा संबंधी दिशा-निर्देशों का पालन करना शामिल हैं। विशेषकर फेस मास्क के संबंध में अंतर्राष्ट्रीय प्रथाओं के अनुसार, कैमरे के सामने मौजूद अभिनेताओं को छोड़कर अन्यं सभी कलाकारों और शूटिंग करने वाली टीम के सदस्यों के लिए फेस मास्क अनिवार्य किया गया है।

Rad also: उपराष्ट्रपति का आह्वान, महिला सशक्तीकरण के लिए चलाया जाए राष्ट्रीय अभियान

मीडिया प्रोडक्शन फिर से शुरू करते समय सभी राज्य सरकारों एवं अन्य हितधारकों द्वारा मार्गदर्शक सिद्धांतों और SOP का उपयोग किया जा सकता है।

दिशा-निर्देश जारी करते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर कहा, ‘SOP अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुरूप है। इससे कोरोना वायरस के कारण तकरीबन 6 माह से बेहद प्रभावित उद्योग को बड़ी राहत मिलेगी और लोग मंत्रालय के इस कदम का स्वागत करेंगे।’ श्री जावड़ेकर ने कहा कि इस कदम का उद्देश्य अर्थव्यवस्था के विकास को नई गति प्रदान करना भी है क्योंकि फिल्म और टेलीविजन सेक्ट्र बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार देता है।

उन्होंने उम्मीद जताई कि सभी राज्य ‘SOP’ को स्वीकार करेंगे एवं इसे लागू करेंगे तथा जरूरत पड़ने पर कुछ अन्य शर्तों को इसमें जोड़ देंगे।

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system