28.1 C
New Delhi
Friday, September 24, 2021

Tokyo Olympics: पी वी सिंधु का सबसे बड़ा रिकॉर्ड, फिलहाल कोई दूसरा खिलाड़ी आस-पास भी नहीं

नई दिल्लीः भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधु (PV Sindhu) ने Olympics में सबसे रिकॉर्ड बनाया है। रविवार को सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics 2020) में महिला एकल मैच में कांस्य पदक जीतकर भारत का मान बढ़ा दिया। पी वी सिंधु ने कांस्य पदक मैच में चीन की ही बिंग जियाओ को 21-13 और 21-15 से हराया और इस जीत के साथ सिंधु दो ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गई हैं। सिंधु ने रियो 2016 में रजत पदक जीता था।

Advertisement

पी वी सिंधु का पूरा नाम पूसर्ला वेंकट सिंधु है। उनका जन्म 05 जुलाई 1995 को हैदराबाद में हुआ था। उनके माता-पिता दोनों राष्ट्रीय स्तर के वॉलीबॉल खिलाड़ी थे। उनके पिता पी वी रमना भी अर्जुन पुरस्कार विजेता है। सिंधु ने महबूब अली के मार्गदर्शन में 8 साल की उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू किया था और सिकंदराबाद में इंडियन रेलवे इंस्टीट्यूट ऑफ सिग्नल इंजीनियरिंग एंड टेलीकम्युनिकेशंस के बैडमिंटन कोर्ट में बैडमिंटन की बुनियादी बातें सीखीं। ये खेल सीखने और इसकी प्रैक्टिस करने के लिए सिंधु अपने घर से बैडमिंटन कोर्ट तक आने-जाने के लिए रोज़ 56 किलोमीटर की दूरी तय करती थीं। फिर वे पुलेला गोपीचंद की बैडमिंटन अकादमी में शामिल हुईं।

Advertisement

Tokyo Olympics 2020 में कांस्पय पदक जीतने वाली बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधु (PV Sindhu) ने 10 साल की श्रेणी में ही कई खिताब जीते। उन्होंने रियो ओलंपिक्स 2016 में रजत पदक, CWG 2018 (टीम प्रतिस्पर्धा) में स्वर्ण पदक,  CWG 2018 में रजत पदक,  एशियाई खेल 2018 में रजत पदक जिता और 2019 में विश्व चैंपियन का खिताब उनके नाम रहा। इसके अलावें पी वी सिंधु (PV Sindhu) को 2020 में पद्म भूषण, 2015 में पद्म श्री,  2016 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार और 2013 में अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया।

Advertisement

Read also: बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधु ने बढ़ाया भारत का मान, टोक्यो ओलंपिक में जीता कांस्य पदक

यह बात अलग है कि पीवी सिंधु ने ये उपल्धि अपनी मेहनत और लगन के बदौलत हासिल की है, लेकिन इसके पीछे कई और लोगों का योगदान भी सराहनीय रहा है। जिनके संरक्षण में वे आज इस मुकाम तक पहुंच पाई हैं उनमें 8-10 साल की उम्र तक ग्रासरूट कोच रहे महबूब अली, 10-12 साल की उम्र तक कोच रहे मोहम्मद अली, आरिफ सर, गोवर्धन सर और टॉम जॉन के अलावें डेवलपमेंट कोच गोपीचंद एकेडमी के पुलेला गोपीचंद और अन्य के साथ 2018 से अब तक इलीट कोच मुल्यो, किम, द्वी, रिफान और पार्क ताए सांग का नाम शामिल है।

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!