24 C
New Delhi
Sunday, February 25, 2024
-Advertisement-

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पर दवाओं और दुआओं का असर, बेटे ने कहा- हालत स्थिर

नई दिल्लीः अस्पताल में भर्ती देश के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पर दवाओं और दुआओं का असर हो रहा है। उनकी हालत अब स्थिर हैं। यह जानकारी उनके बेटे और सांसद अभिजीत मुखर्जी ने बृहस्पतिवार को एक ट्वीट के माध्यम से साझा की है।

दिन में अस्पताल ने एक बयान में कहा था, ‘‘श्री प्रणब मुखर्जी की हालत में आज सुबह भी कोई सुधार नहीं आया। वह गहरी बेहोशी में है और अब भी जीवनरक्षक प्रणाली पर हैं।’’

बाद में अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट किया, ‘मेरे पिता जुझारू हैं और हमेशा रहे हैं। उपचार का उन पर धीरे-धीरे असर हो रहा है। मैं अपने पिता के शीघ्र स्वस्थ होने की सभी शुभेच्छुओं से कामना करने की अपील करता हूं। हमें उनकी जरूरत है।’

पूर्व राष्ट्रपति के स्वास्थ्य को लेकर अफवाहों से नाराज अभिजीत मुखर्जी ने कहा, ‘मेरे पिता श्री प्रणब मुखर्जी अब भी जिंदा है और ‘हेमोडायनामिक’ तौर पर स्थिर हैं। कई वरिष्ठ पत्रकारों के सोशल मीडिया पर गलत खबरें फैलाने से स्पष्ट हो गया है कि भारत में मीडिया फर्जी खबरों की एक फैक्टरी बन गई है।’

उन्होंने यह भी लिखा, ‘जब मैं देखता हूं कि भारत में कोरपोरेट मीडिया घराने, कुछ पत्रकारों और सोशल मीडिया पर लोग सुर्खियों में रहने के लिए जानबूझकर फर्जी खबरों का धंधा करने लगते हैं तो मेरा सिर शर्म से झुक जाता है। एक ही झटके में एक जीवित व्यक्ति को मृत बनाने के लिए कितना गिर जाते हैं वे।’

इधर प्रणब मुखर्जी की बेटी एंव कांग्रेस नेता शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी ट्वीट किया, ‘मेरे पिता के बारे में आ रही खबरें गलत हैं। मैं विशेषकर मीडिया से अनुरोध करती हूं, कि मुझे फोन ना करें…. ताकि अस्पताल से कोई भी अद्यतन जानकारी आने के समय मेरा फोन ‘बिजी’ ना हो।’

बता दें 84 साल के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को 10 अगस्त को दिल्ली के सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था और उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी। कोविड-19 जांच में उनके संक्रमित होने की भी पुष्टि हुई थी, तब से वे अस्पताल में ही भर्ती हैं। उनके हालत में सुधार के लिए जहां डॉक्टरों की टीम लगातार प्रयास कर रही है, वहीं देश के कई हिस्सों में लोग पूजा-पाठ और हवन कर उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए ईश्वर से प्रार्थाना कर रहे हैं।

News Stump
News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system