28.1 C
New Delhi
Friday, September 24, 2021

कानूनी पचड़े में बिहार सरकार का पंचायती राज अध्यादेश, PIL के लिए हाईकोर्ट की मंजूरी

पटनाः बिहार सरकार का पंचायती राज अध्यादेश (Bihar government’s Panchayati Raj ordinance) कानूनी पचड़े में पड़ता दिखाई दे रहा है। पटना हाइकोर्ट ने सरकार के इस नए अध्यादेश के खिलाफ जनहित याचिका (PIL) दायर करने के लिए ई-फाइलिंग को मंजूरी दे दी है। हाइकोर्ट ने जनहित याचिका की यह मंजूरी एडवोकेट प्रियंका सिंह के रिक्वेस्ट पर दी है।

Advertisement

पटना हाइकोर्ट की एडवोकेट प्रियंका सिंह ने कोर्ट के समक्ष गुहार लगाई थी कि पंचायत प्रतिनिधियों के पद खत्म हो जाने से बिहार के गांव नौकरशाही के चंगुल में चले जायेंगे। इसलिए मामले को अर्जेंट मानकर अध्यादेश के खिलाफ जनहित याचिका (PIL) दायर करने की अनुमति दी जाए। एडवोकेट प्रियंका सिंह के इस रिक्वेस्ट पर विचार करते हुए पटना हाइकोर्ट ने अध्यादेश के खिलाफ जनहित याचिका दायर करने के लिए ई-फाइलिंग को मंजूरी दे दी।

Advertisement

दरअसल नीतीश सरकार ने बिहार में पंचायत चुनाव समय पर नहीं हो पाने की स्थिति में बड़ा फैसला लेते हुए पंचायती राज कानून में संशोधन कर अध्यादेश के जरिए नियमों में बदलाव का निर्णय लिया है (Bihar government’s Panchayati Raj ordinance)। इसके मुताबिक बिहार में 15 जून के बाद पंचायती राज संस्थानों की जगह सलाहकार समिति की व्यवस्था की जानी है। लेकिन अब सरकार के अध्यादेश को कानूनी चुनौती देने और राज्य में पंचायत चुनाव नहीं होने के खिलाफ पीआईएल दायर करने के लिए भी उच्च न्यायालय ने मंजूरी दी है।

Advertisement

News Stumphttps://www.newsstump.com
With the system... Against the system

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

लेटेस्ट अपडेट

error: Content is protected !!