सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा ‘दर्द लालू के लाल का’

दर्द लालू के लाल का

पटनाः जब से तेज प्रताप और ऐश्वर्या के तलाक की ख़बर जगजाहिर हुई है, फेसबुक और व्हाट्सप पर मानो कवियों की बाढ़ आ गई है। फेसबुक और व्हाट्सप के इन उभरते कवियों द्वारा तेज प्रताप और ऐश्वर्या पर तरह-तरह की कविताओं की रचना की जाने लगी है।

इस कविता रचना मुल रुप से डॉ. सुनील जोगी द्वारा की गई है। डॉ. सुनील जोगी द्वारा रचित यह कविता लगभग सत्रह साल पुरानी है जिसका शिर्षक है ‘मुश्किल है अपना मेल प्रिये’। इसी कविता को आधार मानकर शब्दों में थोड़ा हेरफेर करते हुए तेज प्रताप और ऐश्वर्या के तलाक पर कई तरह की कविताएं गढ़ दी गई हैं। इन कविताओं को लोग बड़े चाव से पढ़ रहे हैं। पेश है उनमें से दो कविताएं

तुम पिज्जा खाकर पली बढ़ी

मैं सतुआ, मडूआ, घोर प्रिये

तुम राय दरोगा की पोती

मैं सन ऑफ चारा चोर प्रिये

तुम पेप्सी कोला पीती हो

मैं पीता कड़वे घूंट प्रिये

पप्पा है तेरे महलों में

और बप्पा मेरे जेल प्रिये

तुम एमबीए तक पढ़ी हुई

और मैं हूं 9वीं फेल प्रिये

नहीं तेल बचा अब लालटेन में

अब ढोल में है बस पोल प्रिये

है चमक चांदनी रूप तेरा

मैं बेलूरा, बकलोल प्रिये

अब साथ रहे या रहे अलग

लगता नहीं कोई भेद प्रिये

कहकर मिलार्ड से करवा दो

अपना संबंध -विच्छेद प्रिये

अब होगा कैसे मेल प्रिये,अब होगा कैसे मेल प्रिये…

मैं पवनहंस का हेलिकॉप्टर, तुम मोदी की राफेल प्रिये…

मैं जंग लगा लोहे का कील, तुम मर्सिडीज का तेल प्रिये…

मैं गिल्ली डंडा लकड़ी का,तुम IPL का खेल प्रिये…

मैं बिन हैंडिल का सायकिल हूँ,तुम बुलेट वाली रेल प्रिये..

मैं माइक्रोमैक्स टैबलेट जैसा,तुम ब्रांडेड महँगी डेल प्रिये….

मैं चटनी लिट्टी चोखा का,तुम बटर पनीर का मेल प्रिये…

मैं नयन मोंगिया सा सीधा,तुम आक्रामक क्रिस गेल प्रिये.

मैं सस्ती नारियल का रस्सी,तुम बिग बॉस की जेल प्रिये…

मैं बिन नेटवर्क का मोबाईल,तुम महँगी आईफ़ोन एपेल प्रिये..

मैं लोकल मंडी का आलू,तुम शॉपिंग मॉल की सेल प्रिये…

मैं फूस झोपड़ी के जैसा,तुम महलों की खपरैल प्रिये…

मैं छोटा कुआँ का जंतु,तुम गहरे सागर की व्हेल प्रिये…

मैं छपरा का हूँ सन्नाटा,तुम मुम्बईया ठेलमठेल प्रिये…

मैं अच्छे दिन का वादा हूँ, तुम नोटबंदी झमेल प्रिये…

अब होगा ये ना मेल प्रिये,अब होगा ये ना मेल प्रिये…

अब मुश्किल है ये मेल प्रिये,अब मुश्किल है ये मेल प्रिये…!!!!!

नोटः ये दोनो कविताएं फोसबुक और व्हाट्सप पोस्ट से लेकर प्रकाशित की गई हैं।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here