महिला मुखिया के गुंडों ने तोड़ा विधवा का घर, सर्दी में सड़क पर आया पूरा परिवार

हजारीबागः तिनका-तिनका, पाई-पाई जोड़-जोड़कर बड़े ही जतन से एक आशियाना बनाया ताकी बीन बाप के बच्चे लावारिस की तरह सड़कों पर ठोकर ना खाएं, लेकिन अताताईयों को रास नहीं आया और एक दिन सबकुछ ऐसे तबाह कर गए जैसे कोई सपना था जो रात के साथ ही टूट गया। एक बेवस और लाचार विधवा माँ बच्चों को लेकर सड़क पर आ गई।

ये कहानी है पेलावल ओपी अन्तर्गत बाघी टोला की रहने वाली महरुन खातुन की। पति की मौत के बाद किसी तरह कुछ पैसे इकट्ठा कर महरुन ने यहां 2016 में एक छोटी सी जमीन खरीदी थी। जमीन खरीदने के बाद धिरे-धिरे करके किसी तरह से एक छोटा सा आशियाना बनाने में काम लगाया। तभी ईलाके की मुखिया नूर जहां आ धमकी और महरुम से ये कह कर काम रोकने का फरमान दे डाला कि उस जमीन में कुछ हिस्सा उनका भी है। मरहुम ने कहा अगर ऐसा है तो अमिन बहाल कर जमीन की मापी करा लि जाय। मापी हुई तो मरहुम की जमीन सही पाई गई, लेकिन गरिब तो गरिब होता है। दबंगों की दबंगई का सामना हर बार उसे ही करना पड़ता है।

मरहुम ने किसी तरह से एक छोटा सा घर बनाया। जैसे-तैसे घर बसर करने के लायक बन भी गया। थोड़े में ही सही सब कुछ ठीकठाक चल रहा था कि एक दिन अचानक इलाके की मुखिया नूर जहां अपने गुर्आगों के साथ आ धमकी और कड़े तेवर में महरुन से घर खाली को कहकर चली गई।

मुखिया के उस तेवर से डरी सहमी मरहुम अपने एक रिश्तेदार के यहां चली गई। इसी बीच मरहुम की गैरमौजुदगी में मौके का फायदा उठाकर कुछ लोग रात के अंधेरे में उसके घर को तबाह कर गए। खबर पाकर पहुंची मरहुम की तो जैसे दुनिया ही तबाह हो गई। पुलिस के समक्ष न्याय की गुहार लगा चुकी बेघर मरहुम आज पुरा परिवार को लेकर सड़क पर है।

पुलिस मामले की जांच कर रही है और मुखिया खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए अपनी ताकत लगा चुकी है। लेकिन लोगों की माने तो ये सारा का सारा किया करा मुखिया का हीं है। मुखिया ने ही अपने गुंडो के जरीए इस काम को अंजाम दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here