जन्मदिवस पर जानिए बिहार के 23वें राज्यपाल मोहम्मद शफ़ी क़ुरैशी के बारे में

मोहम्मद शफ़ी क़ुरैशी, mohemmad shafi kuraishi

न्यूज़ स्टंपः इस दुनिया में लोग आते हैं, चले जाते हैं, कुछ विस्मरण के अनंत सागर में खो जाते हैं, लेकिन कुछ लोग इतिहास बनाते हैं और हमेशा हमारी यादों में रह जाते हैं। ऐसा हीं एक नाम है मोहम्मद शफ़ी क़ुरैशी का।

मोहम्मद शफ़ी क़ुरैशी नाम भारत के प्रमुख मुस्लिम राजनीतिज्ञों में से एक है। 24 नवम्बर 1929 को जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में जन्मे मोहम्मद शफ़ी क़ुरैशी को जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस पार्टी का संस्थापक माना जाता है।

उन्होंने उस दैर में जम्मू-कश्मीर में चल रही राजनैतिक गतिविधियों में सक्रिय रुप से भाग लिया। नेशनल कान्फ्रेंस को राष्ट्रीय कांग्रेस में बदलने में इनकी महत्त्वपूर्ण भूमिका रही थी।

सन 1965 में वे जम्मू-कश्मीर से पहली बार राज्यसभा के लिये निर्वाचित हुए। उन्होंने बिहार, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के राज्यपाल का पदभार भी ग्रहण किया था।

वे 19 मार्च 1991 से 13 अगस्त 1993 तक बिहार के राज्यपाल रहे थे। फिर उसके बाद उन्होने 14 अगस्त 1993 से 21 अप्रैल 1996 तक मध्यप्रदेश और 3 मई 1996 से 19 जुलाई 1996 तक उत्तर प्रदेश के राज्यपाल पद को सुशोभित किया।

अंग्रेज़ी, पंजाबी, उर्दू, फ़ारसी, अरबी और हिन्दी भाषा के ज्ञाता क़ुरैशी की प्रारंभिक पढ़ाई क्रिश्चियन मिशन सोसायटी हेडाऊ मेमोरियल हाईस्कूल से हुई। इन्होंने श्रीनगर के श्री अमरसिंह कॉलेज  से स्नातक की उपाधि प्राप्त की।

इसके बाद अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से एम.ए., एल.एल.बी. की डिग्री हासिल की और कुछ वक्त तक जम्मू और कश्मीर उच्च न्यायालय में वकालत की।

छात्र जीवन में मोहम्मद शफ़ी क़ुरैशी कुशल खिलाड़ी रहे थे। उन्होंने खेलकूद, सांस्कृतिक और विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों में सक्रिय रुप से भाग लिया।

वे कॉलेज और विश्वविद्यालय की डिवेटिंग सोसायटी के अध्यक्ष रहे। 1952 से 1954 तक वे अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की स्टूडेंट कैबिनेट के सदस्य रहे और लॉ सोसायटी के सचिव रहे।

1954 में उन्हें अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय जॉग्रफीकल सोसायटी का उपाध्यक्ष बनाया गया। वे जम्मू और कश्मीर स्टूडेंट फेडरेशन के अध्यक्ष भी चुने गए।

87 वर्ष की आयु में 28 अगस्त 2016 को दिल्ली के बत्रा अस्पताल में उनका निधन हो गया और इस तरह से देश ने मोहम्मद शफ़ी क़ुरैशी जैसे एक प्रख्यात समाजसेवी एवं प्रसिद्ध राजनेता को हमेशा-हमेशा के लिए खो दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here