56 महिलाओं के हत्यारे पुलिसकर्मी को दूसरी बार उम्रक़ैद

पॉपकोव, पुलिसकर्मी, हत्या, murder

रूसः साइबेरिया में तैनात एक पुलिसकर्मी को दूसरी बार उम्रक़ैद की सजा सुनाई गई है। उसे यह सजा 56 महिलाओं की हत्या का दोषी ठहराते हुए सुनाई गई है। सजा पाने वाले पुलिसकर्मी का नाम मिखाइल पॉपकोव है।

इससे पहले पॉपकोव 22 अन्य लोगों की हत्या के जुर्म में उम्र क़ैद की सज़ा काट रहे हैं। पॉपकोव को 6 साल पहले DNA पहचान के आधार पर गिरफ़्तार किया गया था।

जानकारी के मुताबिक पॉपकोव महिलाओं के प्रति बेहद दिलस्पी रखता था। मिखाइल महिलाओं को पहले अपने जाल में फांसता था फिर रात को घुमाने के बहाने अपनी कार में ले जाता था और उन्हें बेरहमी से मार डालता था।

जिन महिलाओं की हत्या का आरोप मिखाइल पर लगा है, उनमें से लगभग 11 महिलाओं के साथ हत्या से पहले बलात्कार किए जाने की भी बाते सामने आई हैं। इनके अलावा उस पर एक पुरूष पुलिसकर्मी की हत्या का भी आरोप है।

पॉपकोव के हाथो जिन महिलाओं की हत्या की गई है उनकी उम्र लगभग 15 से 40 साल के बीच थी। हत्या के तीन मामलों में तो पॉपकोव अपनी ड्यूटी पर अपनी पुलिस की गाड़ी में था।

बताया जा रहा है कि पॉपकोव ने इन सभी महिलाओं को इर्कुत्स्क के अंगर्स्क शहर के आसपास कुल्हाड़ी और हथौड़े से मारा और फिर उनके टुकड़ों को सड़क किनारे के जंगलों और स्थानीय श्मशान में फेंक दिया।

इन सभी हत्याओं के बाबत पॉपकोव ने दावा किया है कि उसने अंगर्स्क को तथाकथित चरित्रहीन महिलाओं से ‘शुद्ध’ करने के लिए ऐसा कदम उठाया है।

हालाँकि पॉपकोव की इन बातों के सच नहीं माना जा रहा है, क्योंकि हत्या से पहले उसने सभी तरह की महिलाओं को अपनी कार में घुमाने का प्रस्ताव दिया था।

इससे पहले रूस में सबसे अधिक 48 लोगों की हत्या अलेक्ज़ेंडर पुश्किन नाम के एक शख्स ने की थी, जबकि सोवियत ज़माने में आंद्रेइ चिकातिलो ने 52 लोगों का क़त्ल किया था।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here