ओड़िशा के अलग-अलग सरकारी स्कूलों में तीन नाबालिग लड़कियां गर्भवती

भुवनेश्वर: नवीन पटनायक सरकार चाहे जितने भी दावे कर ले ओड़िशा में महिलाएं और युवतियां सुरक्षित नहीं हैं। ताजा मामला बेहद चौकाने वाला और डरावना है। यहां अलग-अलग सरकारी आवासीय स्कूलों में तीन नाबालिग लड़कियों के गर्भवती होने का मामला सामने आया है। जबकी एक छात्रा ने तो होस्टल में बच्चे को जन्म भी दिया है। पुलिस के मुताबिक ये घटनाएं ढेंकनाल, कालाहांडी और जाजपुर जिले में सामने आई हैं।

ढेंकनाल के सप्तसजया में आवासीय स्कूल के हेडमास्टर जनार्दन समाल ने पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि 8वीं कक्षा की छात्रा गर्भवती है। हेडमास्टर की शिकायत के आधार पर 14 वर्षीय छात्रा के बयान दर्ज किए गए और जाजपुर जिले के कालियापानी के 15 वर्षीय एक किशोर को पकड़ा गया है।

वहीं जाजपुर जिले में 15 साल की एक लड़की ने बृहस्पतिवार को कलिंग नगर क्षेत्र में एक बच्चे को जन्म दिया। पुलिस ने बताया कि लड़की और बच्चे दोनों का जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

बता दें, पिछले सप्ताह ही कंधमाल जिले में एक ऐसी ही घटना सामने आई थी, जहां एसटी-एससी विकास विभाग द्वारा संचालित एक आवासीय स्कूल की 14 वर्षीय छात्रा ने एक बच्चे को जन्म दिया था।

गौरतलब है कि कंधमाल जिल की घटना में होस्टल में बच्चे के जन्म देने के बाद नाबालिग छात्रा को बाहर निकाल दिया गया था। इसके बाद छात्रा ने अपनी बेटी के साथ रात में जंगल में शरण ली। जब पुलिस को इसकी जानकारी मिली तो नाबालिग को ढूंढ़ा गया और दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालांकि, अस्पताल में छात्रा की बेटी की मौत हो गई।

अधिकारियों ने बताया कि एक अन्य घटना में कालाहांडी जिले में नरला क्षेत्र में नवोदय आवासीय स्कूल की कक्षा नौ की छात्रा के गर्भवती होने और उस पर गर्भपात की दवा लेने का संदेह है। कालाहांडी में ही एक अन्य घटना में 24 साल के एक युवक को 13 साल की बच्ची से दुष्कर्म करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इस घटना में लड़की गर्भवती हो गई थी।

इधर इन घटनाओं की जानकारी फैलने पर भाजपा कार्यकर्ताओं और स्थानीय लोगों ने सरकार और प्रशासन के खिलाफ  विरोध प्रदर्शन किया और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here